आयोजन:हिंदी विद्यार्थियों को काफी सजग व सतर्क होने की जरूरत

मोतिहारी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
केविवि में आयोजित समापन समारोह में मौजूद पदाधिकारी व शिक्षक। - Dainik Bhaskar
केविवि में आयोजित समापन समारोह में मौजूद पदाधिकारी व शिक्षक।
  • केविवि में हिन्दी पखवाड़ा का समापन एवं पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित, विजयी प्रतिभागियों को कुलपति ने दिया प्रमाण-पत्र

महात्मा गांधी केंद्रीय विवि में हिंदी विभाग द्वारा आयोजित “हिन्दी पखवाड़ा-21” कार्यक्रम श्रृंखला के अंतिम चरण का समापन एवं पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन चाणक्य परिसर स्थित पंडित राजकुमार शुक्ल सभागार में किया गया। हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में विवि के हिंदी विभाग द्वारा 14 से 28 सितम्बर तक हिंदी पखवाड़ा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान आयोजित निबंध लेखन, वाद-विवाद, भाषण, गैर -शैक्षणिक कर्मचारियों के लिए प्रश्नोत्तरी और राष्ट्रीय संगोष्ठी प्रमुख रहा। कार्यक्रम के समापन एवं पुरस्कार वितरण समारोह की अध्यक्षता कुलपति प्रो. संजीव कुमार शर्मा ने की। उन्होंने कहा कि हिंदी की यात्रा अपभ्रंश से प्रारंभ होकर आधुनिक हिंदी तक पहुंची है। इसमें प्रयोगवाद, प्रकृतिवाद की रचनाओं की भूमिका महत्वपूर्ण है। विभिन्न प्रयोगों ने हिंदी को और मजबूत बनाया है। वहीं हिंदी ने राष्ट्रभक्ति जागृत करने में महत्वपूर्ण सहयोग किया है। भाषा को किसी धर्म के साथ जोड़े जाने की आवश्यकता नहीं है।

प्रो. शर्मा ने कहा कि व्याकरण की दृष्टि से हिंदी विद्यार्थियों को काफी सजग एवं सतर्क होने की आवश्यकता है। उन्होंने इसके लिए ज्यादा साहित्य पढ़ने पर जोर दिया, जिससे शब्दावली मजबूत होगी तथा भाषा के उच्चारण को शुद्ध एवं अच्छी बनाएगी। उन्होंने कहा कि हिंदी पखवाड़ा को सिर्फ उत्सव के रूप में न मनाकर इसे सीखने एवं जानने के रूप में मनाया जाए। हिंदी विभाग के अध्यक्ष प्रो. राजेन्द्र सिंह बडगूजर ने किया। हिंदी पखवाड़ा के विभिन्न कार्यक्रमों में प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं सांत्वना विजयी प्रतिभागियों को कुलपति द्वारा प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया। साथ ही सम्पूर्ण पखवाड़े कार्यक्रम की कवरेज के लिए मीडिया अध्ययन विभाग के छात्रों को भी कुलपति द्वारा प्रमाण-पत्र प्रदान किए गए। हिंदी पखवाड़ा कार्यक्रम श्रृंखला की प्रतिवेदन प्रस्तुति रश्मि सिंह, शोधार्थी, हिन्दी विभाग द्वारा की गई।

कार्यक्रमों की झलकियां भी डॉक्यूमेंट्री के माध्यम से प्रदर्शित की गई

समापन समारोह में 15 दिनों में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों की झलकियां भी डॉक्यूमेंट्री के माध्यम से प्रदर्शित की गई। धन्यवाद ज्ञापन हिंदी विभाग के सहायक आचार्य डॉ. श्याम नंदन ने किया। कार्यक्रम में चीफ प्रॉक्टर प्रो. प्रणवीर सिंह, संस्कृत विभाग के अध्यक्ष प्रो. प्रसून दत्त सिंह, प्रो. आतर्रात्रण पाल, प्रो. देवदत्त चतुर्वेदी, अंग्रेजी विभागाध्यक्ष डॉ. बिमलेश कुमार सिंह, मीडिया अध्ययन विभाग के डॉ. परमात्मा कुमार मिश्र, आयोजन समिति के सदस्य एवं हिंदी विभाग के प्रो. प्रमोद मीणा, डॉ. अंजनी कुमार श्रीवास्तव, डॉ. गरिमा तिवारी, डॉ. गोविंद प्रसाद वर्मा उपस्थित थे। विभिन्न कार्यक्रमों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागी विकास गिरी, मनीष दिवाकर तथा पल्लवी कुमारी ने अपनी प्रस्तुति दी। कार्यक्रम को सफल बनाने में हिंदी विभाग के शोधार्थियों एवं विद्यार्थियों की महत्वपूर्ण भूमिका थी। कार्यक्रम में मनीष, विकाश, शिवानी, ऋषभदेव, जहांगीर आदि हिंदी एवं अन्य विभागों के विद्यार्थी एवं शोधार्थी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...