पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

परेशानी:7 दिन बाद भी प्रभावित गांवों में बिजली, पानी की सेवा नहीं

मोतिहारी10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

चंपारण तटबंध टूटने के सात दिन बाद भी लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। बाढ़ प्रभावितों के खाने की व्यवस्था सरकारी स्तर से प्रयास के बाद विभिन्न पंचायतों के मुखिया के द्वारा शुरू हो पाया है। लेकिन पीने की पानी के लिए लोग परेशान हैं। बांध पर फंसे हजारों लोग मात्र एक चापाकल से गंदा पानी पीने को मजबूर हैं। लेकिन पीएचईडी विभाग के अधिकारी अभी इसकी सुध नहीं ले रहे हैं। ऐसा ही हाल स्वास्थ्य महकमे का है। बांध टूटने के बाद से लगातार सर्पदंश हो रहा है।

इसमे अबतक संग्रामपुर प्रखंड के कई गांवों दक्षिणी भवानीपुर, उतरी भवानीपुर, बरवां, बरियरियाटोला राजपुर आदि में लगातार विषैले सांप लोगों को काट रहे हैं। इसमे अबतक दो लोगों की जान चली गई है। लेकिन कही भी मेडिकल कैंप नहीं लग सका है। रविवार को पांच दिन से बुखार से तड़प रही महिला की जानकारी के बाद सीओ के आदेश पर पीएचसी से चिकित्सकों को भेजने का आदेश दिया गया। इसके अलावा जिन गांवों व टोला में बाढ़ का पानी नीचे उतर रहा है, वहां महामारी फैलने की आशंका जताई जा रही है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ब्लीचिंग का छिड़काव भी कराना जरूरी नहीं समझ रहे।
बेजुबान हैं परेशान

बांध टूटने के बाद से बांध पर केवल आम लोग ही शरण नहीं लिए हैं। वहां सैकड़ों की संख्या में मवेशी भी मौजूद हैं। जो लगातार भुखमरी का सामना कर रहे हैं। मवेशियों के लिए जिला प्रशासन की ओर से अभी तक कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं। इससे बेजुबानों को भूखे रहना पड़ रहा है। कई गांवों व टोला का टूट चुका है संपर्क| बताया जाता है कि बांध टूटने के बाद संग्रामपुर प्रखंड के करीब एक दर्जन से अधिक गांव व टोला का संपर्क अभी भी टूटा हुआ है। वहां जनप्रतिनिधि तथा समाजसेवी एनडीआरएफ की बोट या नाव से सूखा राशन या खाना पहुंचा रहे हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें