पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

श्रीमद्भागवत ज्ञान यज्ञ:कभी भी धन, संपत्ति व बल प्राप्त होने पर नहीं करना चाहिए घमंड, दुष्टों से समझौता करना अच्छा नहीं होता : रामप्रवेश

मोतिहारी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गजेंद्र मोक्ष से हुई कथा की शुरुआत, प्रवचन सुनने उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, लगे जयकारे

शहर के श्रीकृष्णनगर स्थित मंगलायतन मंदिर परिसर में मंगलवार को कथावाचक आचार्य रामप्रवेश दासजी महाराज ने श्रीमद्भागवत ज्ञान यज्ञ की शुरूआत गजेंद्र मोक्ष से की। उन्होंने कहा कि गजेंद्र नामक एक हाथी था। उसे हजारों हाथियों के बल प्राप्त थे। अपार बल पाकर वह अहंकारी हो गया। वह अपने से छोटे जीवों को परेशान करने लगा। एक दिन वह सरोबर में पानी पीने गया। इस बीच सरोबर में रहने वाला ग्राह(मगरमच्छ) ने गजेंद्र का पैर पकड़ लिया। भगवान ने पहुंचकर उसकी जान बचाई। इसलिए कभी भी बल, धन, पद, प्रतिष्ठा पर कभी घमंड नहीं करना चाहिए।

कथावाचक ने समुद्र मंथन प्रसंग की चर्चा की

दूसरे प्रसंग में कथावाचक ने समुद्र मंथन प्रसंग की चर्चा की। चौदह रत्नों के साथ अमृत की प्राप्ति के लिए देवता व दैत्यों के बीच समझौता हुआ। लेकिन, अमृत प्राप्ति के बाद दैत्यों ने कलश ले लिया। इसके बाद दोनों में घोर युद्ध हुआ। इस बीच भगवान मोहिनी रूप में पहुंचकर दैत्यों से कलश लेकर देवताओं को अमृत पिला दिया। इस प्रकार दैत्यों को अमृत प्राप्ति नहीं हुई। उन्होंने कहा कि दुष्टों से समझौता करना अच्छा नहीं होता। समय आने पर वह अपनी दुष्टता नहीं छोड़ते। इस कड़ी में उन्होंने नवम स्कंद के श्रीराम कथा में रामवन गमन, भरत मिलाप, रावण वध आदि प्रसंगों की चर्चा की। कथा में कृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। भगवान श्रीकृष्ण की मनोरम झांकी प्रस्तुत की गई।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें