पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही:ओपीडी का समय 8 बजे, खुलता है 10 बजे

मोतिहारी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीसीटीवी कैमरा है, बॉयोमीट्रिक मशीन है, फिर भी लेट-लतीफी से बाज नहीं आते डॉक्टर

जिले के सबसे बड़े सदर अस्पताल में मरीजों काे बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। एक ताे समय से डॉक्टर नहीं मिलते हैं, दूजा रजिस्ट्रेशन कराने के बाद भी ओपीडी के बाहर इंतजार करना पड़ता है। तब तक मरीजों की तकलीफ और बढ़ जाती है। ओपीडी खुलने का समय सुबह 8 से 2 बजे तक निर्धारित है। बुधवार को सभी ओपीडी मिलाकर 435 मरीजों का रजिस्ट्रेशन किया गया था। लेकिन कई ऐसे विभाग हैं, जो सुबह 10 बजे के पहले कभी नहीं खुलता है। इसके कारण दूर-दराज से आए मरीजों को काफी परेशानी होती है।

बुधवार को सुबह 9.40 बजे तक इमरजेंसी को छोड़कर किसी विभाग के ओपीडी में डॉक्टर नहीं थे। जबकि ओपीडी के बाहर इलाज कराने के लिए मरीजों को लेकर उसके अभिभावक लाइन में लग गए थे। हालांकि सदर अस्पताल के डॉक्टरों की लेट लतीफी को लेकर डीएम ने प्रशासनिक अधिकारियों की तीन सदस्यीय मॉनिटरिंग कमिटी बनाई है। इसके बावजूद डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मी समय से अस्पताल नहीं आ रहे हैं। सुबह 9.20 बजे शिशु रोग विभाग के ओपीडी के बाहर अभिभावक अपने बच्चों के साथ इलाज कराने के लिए लाइन में लग गए थे।

इसमें सदर प्रखंड के पतौरा के रिशु कुमार अपने पिता के साथ इलाज कराने आया था। लखौरा के मदन सहनी भी अपने पुत्र सूरज को लेकर आए थे। इसके अलावा कई अन्य मरीज डॉक्टर के इंतजार में थे। सदर अस्पताल में महिला ओपीडी, ऑर्थो ओपीडी, फिजियोथेरेपी विभाग, मेडिसिन विभाग, दंत ओपीडी, नशा मुक्ति, आंख ओपीडी सहित सभी ओपीडी सुबह के 9.30 बजे तक बंद था। इस बीच सफाई कर्मियों के द्वारा सफाई जरूर की जा रही थी।

महिला ओपीडी सहित अन्य विभागों की भी हालत खराब

सदर अस्पताल में सुबह 9.30 बजे तक दंत रोग विभाग के ओपीडी में भी कोई डॉक्टर नहीं आए थे। इससे यहां पर भी मरीज रजिस्ट्रेशन कराकर डॉक्टर के आने का इंतजार कर रहे थे। महिला रोग विभाग के ओपीडी का हाल भी इसी तरह ही था। वहां पर भी दूर दराज से महिलाएं इलाज कराने के लिए आई थी। लेकिन डॉक्टर के लेट से आने के कारण निराश थी।

बुधवार को ओपीडी में इन चिकित्सकों की थी ड्यूटी

इमरजेंसी में डॉ.सुभाष चन्द्र भारती, चाइल्ड ओपीडी में डॉ रुबिया, मेडिसिन ओपीडी डॉ. शशि शंकर शास्त्री, महिला ओपीडी में डॉ. अनुपम कुमारी, नशा मुक्ति में डॉ. अमित किशोर नारायण, ऑर्थो में डॉ. मनोज कुमार सिंह, फिजियोथेरेपी में डॉ. प्रेम कुमार, आई ओपीडी में डॉ. गगनदेव प्रसाद की ड्यूटी थी।

अल्ट्रासाउंड, एक्सरे आदि की जांच रिपोर्ट मिलने में अक्सर होती है देर

डॉक्टर मरीज को देखने के बाद जांच लिखते है। जिसके बाद मरीज जांच के लिए अल्ट्रासाउंड, एक्सरे व जांच कराता है। जांच रिपोर्ट लेकर जब मरीज डॉक्टर के पास ओपीडी में आता है तो अधिकांश डॉक्टर ओपीडी का समय सीमा पूरा होने के कारण निकल चुके होते हैं। ऐसे में मरीजों को जांच रिपोर्ट लेकर दूसरे दिन आना पड़ता है। जिसके कारण मरीजों का तकलीफ और बढ़ जाता है।

कितनी बार कहने पर भी डाक्टरों पर कोई प्रभाव नही पड़ रहा है। सिर्फ एक दिन लेट रहने की बात नही है। रोज का यही हाल है। डाक्टरों ने स्पष्ट रूप से कह दिया है कि 10 बजे से पहले नही आएंगे। इसकी जानकारी डीएम, सिविल सर्जन सहित सभी अधिकारियों को है।
- डॉ. मनोज कुमार, डीएस, सदर अस्पताल मोतिहारी

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें