पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना वारियर्स:संक्रमित पत्नी को घर में छोड़ मरीजों का कर रहे इलाज

मोतिहारीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
परिजनों की कोविड जांच करते डॉ.नीरज। - Dainik Bhaskar
परिजनों की कोविड जांच करते डॉ.नीरज।
  • संग्रामपुर पीएचसी प्रभारी डॉ.नीरज की पत्नी संक्रमित हैं, फिर भी निभा रहे हैं अपना डॉक्टरी धर्म

संग्रामपुर पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. नीरज कुमार द्वारा कोविड संक्रमित पत्नी को घर में छोड़ संक्रमितों की सेवा कर रहे हैं। डॉ. नीरज जहां भी टीकाकरण में कोई समस्या होती है वहां चले जाते हैं और खुद ही टीकाकरण करते हैं और कोविड की जांच में लग जाते है। उनके टीम के अन्य कर्मी भी उनसे प्रेरित होकर नियमित अधिक से अधिक जांच, टीकाकरण, प्रसव कार्य, ओपीडी सहित अन्य महत्वपूर्ण चिकित्सा कार्यों में पूरी ऊर्जा से लगकर कोविड के चेन को प्रखंड से तोड़ने में लगे हुए हैं।

डॉ. नीरज की पत्नी अरेराज पीएचसी में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी हैं, जो विगत आठ दिन पूर्व कोविड संक्रमण का शिकार हो गई। पत्नी के संक्रमण की बात जब नीरज को पता चली तो थोड़ा नर्वस हुए कि अब वे उन्हें छोड़कर ड्यूटी कैसे कर पाएंगे। लेकिन पत्नी डॉ. शीतल नरूला ने उन्हें हौसला देते हुए खुद को आइसोलेट कर अपनी देखभाल खुद करने लगी।

संसाधनों की कमी के बाद टीकाकरण में तेजी

संग्रामपुर पीएचसी में संसाधनों और योग्य कर्मियों के आभाव के बाद भी चिकित्सक के कुशल नेतृत्व के कारण बराबर पीएचसी से गायब रहने वाले चिकित्सक भी अब नियमित ड्यूटी कर रहे हैं। इससे पीएचसी के सभी कार्य सुचारू चल रहे हैं। कोविड कि आपात व्यवस्था को लेकर दस बेड का कक्ष भी नीरज ने पूरी जरूरी व्यवस्था के साथ हरदम तैयार रखा हुआ है।

अब तक कोविड से तीन मौत, बिना डरे संक्रमितों का कर रहे सहयोग

प्रखंड में अबतक तीन लोगों की मौत कोविड संक्रमण से हो चुकी है। लोगों में भय फैला हुआ है। लोग अब घरों से बाहर निकलने से कतरा रहे है। लेकिन इस विकट स्थिति में भी नीरज अपनी टीम के साथ संक्रमितों के घर जाकर परिजनों की जांच, घरों का सेनेटाइजेशन, लोगों को जागरूक कर टीकाकरण करवाना जैसे कार्य सफलतापूर्वक कर रहे हैं। बीडीओ दृष्टि पाठक ने भी चिकित्सक की प्रशंसा करते हुए कहा कि जब से नीरज आये हैं, स्वास्थ्य व्यवस्था काफी सुदृढ हुई है।

खबरें और भी हैं...