काम में तेजी लानी होगी / कोरोना से जंग में धीमी पड़ी बाढ़ पूर्व तैयारी की रफ्तार,आश्रय स्थल का नहीं हुआ चयन

संग्रामपुर प्रखंड के बिन टोली गांव में मरम्मत के बाद चंपारण तटबंध। संग्रामपुर प्रखंड के बिन टोली गांव में मरम्मत के बाद चंपारण तटबंध।
X
संग्रामपुर प्रखंड के बिन टोली गांव में मरम्मत के बाद चंपारण तटबंध।संग्रामपुर प्रखंड के बिन टोली गांव में मरम्मत के बाद चंपारण तटबंध।

  • बाढ़ के पूर्व संग्रामपुर बिनटोली के पास चंपारण तटबंध पर किया गया कटावरोधी काम

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

मोतिहारी. कोरोना से जंग के बीच बाढ़ पूर्व प्रशासनिक तैयारी की रफ्तार धीमी पड़ गई है। जिले में 15 जून से बाढ़ आने की संभावना होती है। पूर्वी चंपारण का अधिकांश हिस्सा बाढ़ की चपेट में रहता है। जिस कारण यहां एक माह पूर्व ही विशेष तैयारी पूरी कर ली जाती है। गत वर्ष तक यहां मार्च से ही बाढ़ से निपटने की तैयारी शुरू कर दी जाती थी। जिसे मई के अंत तक समाप्त कर लिया जाता था। उसके बाद जरूरी संसाधनों की व्यवस्था 15 दिनों में की जाती थी। इस बार अधिकारियों के कोरोना कार्य में फंसे होने व लॉकडाउन के कारण बाढ़ से निपटने की तैयारी धीमी पड़ गई है। जो काम अप्रैल में पूरा करना था। वह अब तक पूरा नहीं हुआ है। प्रखंडों में न तो आश्रय स्थल का चयन हुआ है और न ही नाविकों का निबंधन। सामान की आपूर्ति के लिए टेंडर निकाला गया था। जिसे लेने के लिए कोई ठेकेदार नहीं आया। अप्रैल के अंतिम सप्ताह में आपदा कार्यालय ने बाढ़ निरोधक कार्य से जुड़े विभागों के कार्यपालक अभियंताओं से अक्राम्य स्थल(जहां नदी तटबंध से सटकर बहती है) की सूची मांगी थी। जिसे तीन दिनों में है उपलब्ध कराने को कहा गया था। यह सूची अभी तक उपलब्ध नहीं कराई गई है। विभाग ने इन स्थलों को अभी तक पूरी तरह से चिन्हित भी नहीं किया है। लॉकडाउन के कारण पूरा काम ठप पड़ा था। सरकार के स्तर से छूट मिलने के बाद इस काम में अब तेजी आई है। विभाग गंडक व सिकरहना नदी के अक्राम्य स्थलों की सूची बना रहा है।
चंपारण व सिकरहना तटबंध पर चल रहा है कटावरोधी कार्य
चंपारण तटबंध पर अरेराज से केसरिया के बीच सात जगहों पर कटाव रोधी कार्य चल रहा है। जिसमें भवानीपुर, ढेकहां, इजरा, मझरिया आदि जगह शामिल हैं। जबकि सिकराहना तटबंध पर 23 जगहों पर कटाव रोधी कार्य चल रहा है। दोनों तटबंधों का काम 31 मई तक समाप्त करना है। लॉकडाउन के कारण पूर्व में काम की गति धीमी थी। जिसे अब तेज किया गया है। चंपारण तटबंध के मननपुर, इजरा, संग्रामपुर अस्पताल, ढेकहा व भवानीपुर में खतरा को देखते हुए विशेष तैयारी की जा रही है। इन स्थलों पर पांच-पांच हजार बोरा सैंड भर कर रखे जाने की तैयारी है। जबकि 50 हजार बोरा स्टॉक में रखा जाएगा। 
मीडियम रेन की है संभावना  31 मई तक काम पूरा होगा
सिकरहना तटबंध के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि 31 मई तक बांध के मरम्मत का काम पूरा कर लिया जाएगा। उसके बाद कटाव रोधी कार्य के तहत बोरा को मंगाकर चिन्हित स्थलों पर बालू की व्यवस्था की जाएगी। बालू को बैग में भर कर स्थिति से निपटने के लिए रखा जाएगा। मौसम पूर्वानुमान के आधार पर इस बार पूर्वी चंपारण में मीडियम रेन की संभावना बन रही है। वर्षा के दौरान नेपाल से आने वाले पानी पर जिले में बाढ़ की स्थिति निर्भर होगी। वर्षा के दौरान नेपाल सरकार के मौसम विभाग के एप से वर्षा की जानकारी होगी।
विशेष जांच दल बांधों का कर रहा निरीक्षण, डीएम को सौंपेग रिपोर्ट
विभाग का विशेष जांच दल चंपारण व सिकरहना तटबंध पर चल रहे कटाव रोधी कार्य एवं बांध की स्थिति का निरीक्षण कर रहा है। जांच दल के अध्यक्ष इंजीनियर किशोर कुमार गत चार दिनों से जिले घूम कर बांधों का निरीक्षण किए। चंपारण तटबंध पर चल रहे कटाव रोधी कार्य को देखकर उन्होंने संतोष व्यक्त किया। कहा कि 31 मई तक हर हाल में काम पूरा कर लेना है। चंपारण तटबंध के कार्यपालक अभियंता ई. दीपक कुमार ने बताया कि बांध पूरी तरह सुरक्षित है। सीओ व बीडीओ के साथ उनके विभाग के सहायक अभियंता तथा सिविल एसडीओ के साथ वह बांध का संयुक्त निरीक्षण किए हैं। जिसकी रिपोर्ट डीएम को सौंप दी गई है।
15 से अधिक प्रखंड रहती बाढ़ की चपेट में, झेलनी पड़ती है परेशानी
बाढ़ से जिले में भीषण तबाही मचती है। जिले के 15 से अधिक प्रखंड बाढ़ की चपेट में रहते हैं। जिसमें बंजरिया, सुगौली, रामगढ़वा, मोतिहारी, तुरकौलिया, अरेराज, संग्रामपुर, चकिया, केसरिया, पताही, घोड़ासहन, ढाका, पताही, पकड़ीदयाल, फेनहारा,  मधुबन, केसरिया आदि प्रखंड शामिल हैं। 
बाढ़ से संबंधित सामानों की आपूर्ति के लिए टेंडर निकाला गया था। लेकिन टेंडर में कोई शामिल नहीं हुआ। दुबारा टेंडर निकालने की प्रक्रिया की जा रही है। एसडीआरएफ व एनडीआरएफ की टीम के लिए भी लिखा जा रहा है। 
अनिल कुमार, अपर समाहर्ता, आपदा प्रबंधन

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना