पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सड़क पर बना 15 फीट का गड्ढा आना-जाना ठप:खैरवा चौक से सराठा, परसा, कुशमहवा, पंड़री और जमुआ जाने वाली सड़क 20 फीट तक बही, 10 गांवों का सड़क संपर्क टूटा

मोतिहारी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बहलोलपुर में सड़क पर लगा पानी और इससे होकर गुजरते लोग। - Dainik Bhaskar
बहलोलपुर में सड़क पर लगा पानी और इससे होकर गुजरते लोग।

भास्कर न्यूज|सिकरहना
दोपहर 2 बजे ढाका प्रखंड के करमावा पंचायत के बहलोलपुर व आसपास के गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। गांव के निचले इलाके के दो सौ ज्यादा घरों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है। गांव से बाहर निकलने वाले तीनों रास्ते बंद है। लोग जैसे-तैसे अपने रोजमर्रा के सामानों की खरीदारी के लिए बाहर जाने के प्रयास में हैं। जबार अंसारी ने बताया कि सबसे बुरी स्थिति इस गांव के गुलरिया टोला की है। वहां जांघ भर से कमर भर तक पानी है। लगभग 100 घरों में पानी समा चुका है। लोग बगल के मदरसा व मंदिर सहित ऊंचे स्थलों पर शरण लिए हुए है। यह स्थिति सोमवार से ही है पर अबतक किसी पदाधिकारी ने इनकी खबर तक नहीं ली है। मदद के नाम पर एक अदद नाव या माचिस भी नहीं पहुंचाई गई। 
वहां से आगे खैरवा होकर 10 गांवों को जोड़ने वाली सड़क लगभग 20 फीट बह चुकी है। वहां खड़े कई ग्रामीणों ने बताया कि यहां लगभग 15 फीट गहरा गड्ढा बन चुका है। सड़क पार करना संभव नहीं है। लिहाजा लाेग अपनी साइकिल व सामान काे उठाकर जान जोखिम में डालकर लगभग चार फीट तक पानी पार कर जाने लगे। इस पार आने पर पूछने पर सद्दाम हुसैन ने बताया कि ढाका की ओर से गांव जाने का कोई रास्ता ही नहीं बचा है। 
राहत : लालबकेया नदी के जलस्तर में गिरावट दर्ज की गई, खतरे के निशान से 16 सेमी नीचे बह रहा पानी

बहलोलपुर-खैरवा चौक के पास जान को जोखिम में डालकर घर जाते लोग।
बहलोलपुर-खैरवा चौक के पास जान को जोखिम में डालकर घर जाते लोग।
  • नासी में डूबने से 10 साल के मोहम्मद अख्तर की हुई मौत

ढाका प्रखंड के झौआराम पंचायत के बलुआ गांव के नासी में डूबने से एक 10 वर्षीय बच्चे की मौत हो गई। उक्त बच्चा मकबूल आलम का पुत्र मो. अख्तर था। बताया जाता है कि मो. अख्तर अपने घर से बकरी चराने निकला था। उसी दौरान अन्य बच्चों के साथ नासी में नहाने चला गया। देखते ही देखते वह गहरे पानी में चला गया। साथ के बच्चों के शोर करने पर वहां कुछ लोगों ने पहुंचकर उसे बाहर निकाला लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। पुलिस फिलहाल उसका पोस्टमार्टम कराने में जुटी है। पुत्र के असामयिक निधन पर परिजनों में शोक का माहौल है।

  • सराठा में घुसा पानी, दाे जगहाें पर टूटी नहर, लोगों ने स्कूल में ली शरण

सराठा गांव के योगिया पोखर समीप बसे 50 से 60 लोगों का घर है। गांव के अधिकांश जगहों पर पानी अब भी लगा हुआ है। पूरब की ओर से घुटने भर पानी पार कर अपने घर की ओर जाते हुए एक वृद्ध व एक अधेड़ ने पूछने पर बताया कि रविवार की रात से यहां पानी जमा होना शुरू हो गया था। देखते देखते सोमवार की सुबह कमर भर से ज्यादा पानी हो गया। सभी घरों में पानी घुसना शुरू हो गया। कुछ लोग अपने घरों से आवश्यक सामान लेकर नहर पर भागे तो कुछ लोग गांव के प्राथमिक विद्यालय में। सोमवार को पूरा दिन पानी का बहाव बढ़ता रहा। मजबूरी बढ़ती ही जा रही थी। पर इसी बीच अत्यधिक दबाव के कारण नहर दो जगहों से टूट गई।

  1. लाेगाें की सुधि लेने नहीं पहुंचे अफसर, पीड़ितों ने जताई नाराजगी 

उमेश राम ने कहा पिछले दो दिन हम पानी में घिरे रहे हैं। हमारी सुधि लेने के लिए कोई भी प्रशासनिक अधिकारी अबतक यहां नहीं पहुंचे हैं। हर वर्ष बाढ़ का सामना करना हमारी नियति बन चुकी है। यह दशा तो नदी के समीप के लोगों की भी नहीं होगी। जिस नदी का पानी हमें तबाह करता है उस नदी की दूरी यहां से लगभग 10 किमी है। जबतक हीरापुर के समीप छोड़ दिए बांध को आगे नहीं बढ़ाया जाता तबतक इस समस्या से छुटकारा मिलना असंभव है। हर वर्ष सारा पानी सराठा, हरूआनी, बरेवा आदि गांव से होकर ही निकलता है। सरकार व अधिकारी को यह कार्य प्राथमिकता के तौर पर करना चाहिए। जनप्रतिनिधि भी मौन साधे रहते हैं। 

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें