पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी खबर:भेला छपरा लचका पर पानी देखकर बारातियों ने किया जाने से इनकार, ग्रामीणों ने नरसिंह बाबा मंदिर में कराई शादी

मोतिहारीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नरसिंह बाबा मंदिर में शादी के बंधन में बंधते दंपती। - Dainik Bhaskar
नरसिंह बाबा मंदिर में शादी के बंधन में बंधते दंपती।
  • बारातियों और दूल्हे को ग्रामीणों ने समझाया, नाव से दूल्हे के परिजनों को लाया गया

प्रखंड के मोखलिशपुर में आई बाढ़ के कारण एक शादी टूटते टूटते बच गई। वही बुद्धिजीवियों के प्रयास के बाद नरसिंह बाबा मंदिर में शुक्रवार को शादी सम्पन्न हो पाई। बताते चले कि सदर प्रखंड के संतपुर निवासी रामतपेश यादव के पुत्र चंदन कुमार की शादी बंजरिया प्रखंड के मोखलिशपुर निवासी लालबाबू प्रसाद यादव की पुत्री अनिता कुमारी की शादी तय हुई थी। दोनों परिवार की रजामंदी से 17 जून को शादी की तारीख तय की गई थी। जब बारात संतपुर से भेला छपरा लचका पर पहुंची पानी बहते देख बारात रुक गई। जिसके बाद लड़की वालों ने बाराती व लड़के को नाव से गांव में चलने का आग्रह किया। परन्तु बाढ़ देख लड़के वालों ने बारात वापस ले जाने का फैसला कर लिया। बारातियों के लौटते देख आस पास के गांव के लोग यह देख रहे थे।

दुल्हन का भाई बोला-बाढ़ ने मेरे सभी अरमानों पर फेरा पानी, शहर में हुई शादी

शादी टूटते व बारात वापस ले जाते देख भेला छपरा गांव के लोगो ने बारात के दूल्हे समेत अन्य गाड़ियों को रोक लिया। जिसके बाद काफी मान मनौवल के बाद लड़के वालों ने गांव में नही जाकर शहर में शादी पर राजी हुए। जिसके बाद लड़की वालों ने भी मजबूरी में हामी भर दी। लड़की का भाई प्रमोद कुमार ने बताया कि सारे अरमानों पर बाढ़ का पानी फेर दिया। खुशी से शादी की तैयारी की थी। शादी को लेकर टेंट लाइट की सारी व्यवस्था की गई थी। बारातियों के नाश्ता खाना की पूरी तैयारी हो चुकी थी। लड़के वालों के गांव जाने से इनकार कर देने का बाद लड़की व सगे संबंधियों को गांव से नाव पर बैठा कर भेला छपरा लाया गया। वहां से गाड़ी से मंदिर तक लाया गया तब जाकर शादी सम्पन्न हुई।

खबरें और भी हैं...