पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आस्था:इस बार पांच सोमवारी होने से अत्यंत शुभ फलदायक है सावन का महीना, घरों में होगी भगवान शिव की आराधना

मोतिहारी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सावन 6 जुलाई से शुरू हो रहा। 3 अगस्त को स्नान-दान के साथ श्रावणी पूर्णिमा व रक्षाबंधन पर्व पर भगवान शिव के प्रिय महीना सावन का समापन होगा। इस बार पांच सोमवारी युक्त होने से सावन का महीना अत्यंत शुभफलकारक माना जा रहा। हिन्दू पंचांग के अनुसार, चैत्र मास से आरंभ होने वाले वर्ष में पांचवां महीना श्रावण मास सबसे अधिक शुभकारी और पवित्र महीना माना गया है। श्रावण मास की पूर्णिमा पर आकाश मंडल में श्रवण नक्षत्र अपनी पूर्णता के साथ जगमगाता है।

इसलिए इस माह को श्रावण मास कहा गया है। इस मास को शिव मास भी कहा जाता है। क्योंकि, यह महीना भक्तों के लिए विशेष मुहूर्तों से युक्त मंगलकारी काल होता है। यह जानकारी वेद विद्यालय के प्राचार्य सुशील कुमार पांडेय ने दी। बताया कि श्रावण मास में जो भक्त भगवान शिव का पूजन एवं रुद्राभिषेक आदि अनुष्ठान करते हैं, उनके लिए इस लोक और परलोक में कुछ भी दुर्लभ नहीं। इस मास में जो दान, व्रत, जप, होम आदि किया जाता है।

शिवत्व के माध्यम से प्राप्त होती है जीवन की श्रेष्ठता

प्राचार्य ने बताया कि शिव की महिमा ही निराली है। प्रसन्न हुए तो कुबेर को देवताओं का कोषाध्यक्ष बना दिया। अश्विनी कुमारों को आयुर्वेद विद्या सौंप दी। महामृत्युंजय स्वरूप होकर भीषणतम रोग से मुक्ति दे देते हैं। जीवन में श्रेष्ठता शिवत्व के माध्यम से ही प्राप्त हो सकती है। इसलिए इस माह में सम्पन्न किए जाने वाले सभी प्रयोग साधना सौभाग्य दायक होते हैं। 

मनोवांछित फल प्रदान देते हैं भोलेनाथ
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, मंदराचल पर्वत को धुरी बनाकर वासुकी नागों से बांधकर समुद्र मंथन श्रावण मास में ही सम्पन्न किया गया था। ऐसा माना जाता है कि श्रावण में शिव पृथ्वी पर भी विचरण करते हैं। इसलिए इन्हें प्रसन्न करने के लिए घर आदि में शिव पूजन व रुद्राभिषेक आदि अनुष्ठान सम्पन्न किए जाते हैं। इस वार कोरोना वायरस को लेकर लाए गए नियमों पर गौर करें, तो मंदिरों व शिवालयों में पूजा-अर्चना करने वालों की भीड़ कम रहेगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें