बाढ़ का खतरा / सुगौली के धनही गांव के पास टूटे बांध की नहीं हुई मरम्मत, 250 परिवारों को खतरा

Unopened Dam near Dhanahi village of Sugauli, 250 families threatened
X
Unopened Dam near Dhanahi village of Sugauli, 250 families threatened

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

मोतिहारी. सिकरहना नदी के समीप गत वर्ष ध्वस्त बांध की मरम्मत नहीं होने से नगर के वार्ड 13 धनही के ग्रामीणों को बाढ़ की चिंता सताने लगी है। नगर के वार्ड 13 के पश्चिमवारी टोला के समीप गत वर्ष एक ही जगह दो पार्ट में करीब पचास फीट बांध टूट गया था। जिसकी अब तक मरम्मत नहीं हुई है। जिससे स्थानीय ग्रामीण काफी चिंतित है। बताते चलें कि गत वर्ष उक्त बांध के टूटने से इस गांव के लोग काफी प्रभावित थे। कुछ दूरी पर दो पार्ट में करीब पचास फीट बांध टूट गया था।

जिसके माध्यम से सिकरहना नदी का पानी तेजी से दक्षिणी हिस्से में प्रवेश किया था। जिससे धनही, महादेव टोला आदि गांव के लोग काफी प्रभावित हुए थे। जिनका फसल पुरी तरह से बर्बाद हो गया था। जिससे गांव से ही गांव के लोगों का संपर्क भी टूट गया था। उस टूटे हुए बांध के बगल से लोग आते-जाते हैं। लेकिन इस बार अगर बाढ आई तो पुनः स्थानीय लोगों का एक दूसरे से संपर्क टूट जाएगा और करीब दो सौ से ढाई सौ परिवार प्रभावित होंगे।

नपं के ईओ बोले-कार्यपालक अभियंता को पत्र भेजा गया है 

लोगों में बाढ़ का भय
बारिश के कारण सिकरहना नदी और तिलावे नदी के तट अवस्थित लोग अवश्यभावी बाढ़ से डरे सहमे हैं। लगातार हो रही बारिश से प्रखंड क्षेत्र में बाढ आने का खतरा मंडरा रहा है। जिससे लोग फिर से अवश्यभावी बाढ़ को लेकर काफी चिंतित है। प्रखंड क्षेत्र में बीते वर्ष बाढ़ की याद फिर से आने लगी है।

हाकिम लोग खाली आवता...देख के चल जाता पर बांध नेइखे बांधल जात
सिकरहना नदी के समीप बसे धनही पश्चिमवारी टोला के जयश्री  देवी, रंभा देवी ने बीते बाढ़ की दंश झेल चुकी अपनी दर्द बयां करते हुए बताया कि बीते साल  बांध के टूटला से भारी तबाही झेलनी सन। आ इ साल भी बांध न बनल। अपरी अगर बाढ आई त बडी बर्बादी होई। खाली लोग आवता आ जांच करता, पर मरम्मत नईखे होत...वहीं स्थानीय छठू सहनी, जकीना खातुन, फातमा खातून ने बताया कि बांध टूटे एक साल हो गया। पर किसी ने इसकी सुधी नही ली।

अब बाढ का खतरा मंडराने लगा है। बांध का निर्माण नहीं होने से बीते वर्ष की बाढ की तबाही फिर से याद आने लगी है। अगर बाढ पूर्व बांध की मरम्मत नहीं होगी तो अगल बगल के कई गांव के लिए इससे बुरी तरह से प्रभावित होंगे। वहीं वार्ड पार्षद पति उपेंद्र सहनी ने बताया कि इसको लेकर कई बार स्थानीय अधिकारियों को अवगत कराया गया है। स्थानीय स्तर पर जांच कर प्रक्रिया भी शुरू की गई थी। तीन महीने पहले नपं के कार्यपालक पदाधिकारी संदीप कुमार और जेई ने बांध का जायजा लिया, पर अबतक बांध का मरम्मत नही हुआ। इस संबंध में नपं के कार्यपालक पदाधिकारी संदीप कुमार ने बताया कि इसके लिए कार्यपालक अभियंता को पत्र भेजा गया है। वरीय अधिकारियों को भी जानकारी दी गई है।
बाढ़ जनित बीमारियों के बारे में दी जानकारी

पीएचसी रामगढ़वा में मंगलवार को स्वास्थ्य कर्मियों की बैठक हुई। जिसमें डॉ. प्रहस्त कुमार ने मौजूद सभी एएनएम व आशा फेसिलेटर को बाढ़ के दौरान होने वाली बीमारी व इनका उपचार विषय पर बताया गया। बाढ़ प्रभावित सभी इलाकों में उच्च स्थान का चयन करने का भी निर्देश दिया गया। ताकि बाढ़ के समय में भी स्वास्थ्य कार्य निर्विघ्न रूप से जारी रहे। इस अवसर पर सभी एएनएम व आशा फेसिलेटर को आइरन, कैल्शियम, छापा अंतरा, साप्ताहिक आइरन फोलिक एसिड इत्यादि दस प्रकार की दवा उपलब्ध कराई गई।मौके पर केयर इंडिया के बी एम निवीत कुमार, रवि कुमार, गजनफर आलम, रतन पांडेय, सुशांत कुमार सहित तेरह एएनएम व दस आशा फेसिलेटर उपस्थित थी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना