पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना का असर:स्कूल खुले तो उत्साहित छात्र माता-पिता की सहमति के बगैर पहुंच गए, स्कूल ने लौटाया

मोतिहारीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • छह माह बाद सोमवार से 9वीं से 12वीं तक के खुले स्कूल : मास्क व सेनेटाइजर के साथ पहुंचे बच्चे, निजी स्कूलों में स्क्रीनिंग कर दी गई कैंपस में घुसने की अनुमति

लॉकडाउन के बीच तकरीबन छह महीने बाद सोमवार से 9वीं से 12वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के लिए जिले के सभी सरकारी व निजी स्कूल खोल दिए गए।निजी स्कूलों के विद्यार्थी मास्क व सेनेटाइजर अपने साथ लेकर पहुंचे थे। अधिकतर स्कूलों में बच्चों व शिक्षकों के लिए सेनेटाइजर व थर्मामीटर का इंतजाम किया गया था। हालांकि पहले दिन स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति काफी कम रही। कई स्कूलों में मेन गेट पर तापमापी यंत्र से जांच के बाद ही कैंपस में प्रवेश की इजाजत दी गयी। जिला शिक्षा कार्यालय से चार दिन पहले पत्र जारी किए जाने के बाद भी कई सरकारी विद्यालयों में तैयारी आधी-अधूरी ही दिखायी दी। जानकारी के अभाव में पहले दिन कई बच्चे बगैर मास्क व माता-पिता की सहमति के विद्यालय पहुंच गए थे। ऐसे बच्चों को मेन गेट से लौटा दिया गया।

किसी भी सरकारी स्कूल के गेट पर न तो थर्मामीटर, न ही सेनेटाइजर का इंतजाम

सरकारी व निजी स्कूलों में सरकारी निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से डीईओ द्वारा जिलास्तरीय कमेटी बनायी गयी है। डीपीओ माध्यमिक शिक्षा दिनेश्वर मिश्रा को कमेटी का नोडल पदाधिकारी बनाया गया है। इनकी मदद के लिए तीन कर्मचारियों को भी लगाया गया है। मगर, प्रथम दिन सभी अपने कार्यालय में बने रहे। किसी ने कोई भी विद्यालय जाने की जहमत नहीं उठायी। शहर के सरकारी स्कूलों में पहले दिन सरकारी निर्देशों के अनुसार व्यवस्था नहीं दिखायी दी। पहले दिन बच्चे भी कम संख्या में पहुंचे थे। किसी भी विद्यालय के गेट पर न तो थर्मामीटर की व्यवस्था थी, न ही सेनेटाइजर का इंतजाम। शिक्षक भी सरकारी निर्देश के मुताबिक कक्षा संचालन की व्यवस्था को लेकर बैठक में व्यस्त दिखे। शहर के जिला स्कूल, एमजेके गर्ल्स इंटर कॉलेज व मंगलसेमिनरी में स्थिति एक जैसी थी।

एचएम ने कहा-पहले दिन बच्चों की उपस्थिति रही कम

शांतिपुरी मुहल्ला स्थित एमकेडी पब्लिक स्कूल की प्राचार्या अमिता कुमारी ने बताया कि स्कूल में दो बार सेनेटाइजेशन की व्यवस्था की गयी है। निर्धारित शिड्यूल के अनुसार सभी बच्चे मास्क लगाकर तथा माता-पिता से सहमति पत्र लेकर विद्यालय पहुंचे थे। पहले दिन तकरीबन 20 बच्चे स्कूल आए हैं। बच्चों व शिक्षकों की सुरक्षा सर्वोपरी है। वहीं आर्य विद्यापीठ के निदेशक रणजीत कुमार ने बताया कि विद्यालय पहुंचे बच्चों के लिए गेट पर तापमापी यंत्र लगाया गया है। कैंपस में बच्चों के लिए हाथ धोने व सिनेटाइजर की व्यवस्था की गयी है।

शिकायत मिलती है तो कार्रवाई
जिले के सभी सरकारी व निजी विद्यालयों को स्कूल खोलने से संबंधित विभागीय पत्र 22 व 24 सितंबर को ही भेज दिया गया है। सरकारी निर्देश के बारे में सबको पता है। अगर, कहीं से शिकायत मिलती है तो कार्रवाई की जाएगी।
- दिनेश्वर मिश्र, डीपीओ, माध्यमिक शिक्षा।


आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज समय बेहतरीन रहेगा। दूरदराज रह रहे लोगों से संपर्क बनेंगे। तथा मान प्रतिष्ठा में भी बढ़ोतरी होगी। अप्रत्याशित लाभ की संभावना है, इसलिए हाथ में आए मौके को नजरअंदाज ना करें। नजदीकी रिश्तेदारों...

और पढ़ें