पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ध्वस्त पुलिया:कोइरगांवा गांव के पास बाढ़ के पानी से ध्वस्त पुलिया के एप्रोच पथ की मरम्मत कर आवागमन किया गया शुरू

नरकटियागंज19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोइरगांवा गांव के पास बाढ़ के पानी से ध्वस्त पुलिया का एप्रोच सड़क की मरम्मत कार्य शुरू कर दिया गया है। इसकी जानकारी देते हुए पुलिया के संवेदक अनिल साही ने बताया कि पुलिया निर्माण कार्य कराने के दो दिन बाद ही बाढ़ आ गई। जिसके वजह से पुलिया का एप्रोच सड़क बाढ़ के पानी में बह गया। आधा दर्जन से अधिक गांव के लोगों को लगभग 3 से चार दिन परेशानी हुई है। उन्होंने यह भी बताया कि एप्रोच सड़क बहने की खबर दैनिक भास्कर ने प्रमुखता से प्रकाशित किया तथा लोगों की समस्या से अवगत कराया। जिसको गंभीरता से लेते हुए बुधवार से निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है।

संवेदक ने बताया कि बाढ़ की वजह से पुलिया के पास एप्रोच सड़क पर लगभग 6 फीट गड्ढा कुछ दूर तक हो गया था। जिसको ईट सोलिंग कर ट्रैक्टर ट्राली एवं जेसीबी से भरा जा रहा है। गुरुवार को निर्माण कार्य पूरा कर आवागमन बहाल कर दिया गया है।

उन्होंने बताया कि वर्षात बाद एप्रोच सड़क पर पीचिंग कार्य भी प्रारंभ कर दिया जाएगा।

पिछले दिनों आई बाढ़ के पानी ने कोइरगांवा गांव के पास मुख्य पुलिया का एप्रोच सड़क को काट कर बहा ले गई थी। जिससे आधा दर्जन से अधिक गांव के सैकड़ों लोगों का आवागमन ठप हो गया था। गांव वालों का संपर्क अनुमंडल मुख्यालय से लगभग कट गया था। कोइरगांवा के सुधाकर महतो, धनराजो मुस्मात, नंदलाल पासवान, प्रिंस कुमार, वृजेश राम, दीपू महतो, एकबाली चौरसिया, जनार्दन पासवान आदि का कहना है कि एक माह पहले कोइरगावा गांव स्थित वार्ड संख्या 13 में मुख्य सड़क पर पुलिया का निर्माण कराया गया था। बाढ आने के दो दिन पहले संवेदक के द्वारा पुलिया के पास एप्रोच सड़क पर मिट्टी भराई कर छोड़ दिया गया। पंडई नदी का बाढ़ का पानी तेज रफ्तार से एप्रोच सड़क बहा ले गई। जिसके बाद आवागमन ठप हो गया। जिसके कारण राजपुर, विक्रमपुर, बरई टोला, सोनासति, बैतापुर, हिंगलहर, खजुरिया

बरवा आदि गांवों का संपर्क अनुमंडल मुख्यालय से कट गया था। गांव वाले जन सहयोग से चचरी पुल बनाकर आवागमन बहाल किए थे। जान जोखिम में डालकर लोग चचरी पुल पार भी कर रहे थे। जिसको दैनिक भास्कर ने आम लोगों की समस्या को देखते हुए सोमवार को खबर प्रकाशित की। खबर को देखने के बाद संवेदक की निंद्रा भंग हुई है।

खबरें और भी हैं...