मुजफ्फरपुर में 100 साल पुरानी अष्टधातु की मूर्ति चोरी:राम-जानकी और लक्ष्मण की मूर्ति ले गए चोर, गोपाल जी और बजरंग बली को भी नहीं छोड़ा

मुजफ्फरपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुजफ्फरपुर में 100 साल पुरानी अष्टधातु की मूर्ति चोरी। - Dainik Bhaskar
मुजफ्फरपुर में 100 साल पुरानी अष्टधातु की मूर्ति चोरी।

मुजफ्फरपुर में एक बार फिर चोरों ने मंदिर को निशाना बनाया। ठंड के मौसम में हर साल किसी न किसी पुरानी मंदिर में चोरी की घटना घटती है। इस बार भी चोरों ने औराई थाना क्षेत्र के भलुरा गांव में स्थित सौ साल पुराने अष्टधातु की मूर्ति को चोरी कर लिया। मंदिर में राम-जानकी और लक्ष्मण भगवान की मूर्ति अष्टधातु की थी। जबकि गोपाल जी और बजरंग बलि की मूर्ति पत्थर का था। चोरों ने इसे भी नहीं छोड़ा। शुक्रवार को जब पूजा-पाठ करने मंदिर के सेवक रामभद्र शाही गए तब ताला टूटा हुआ देखकर चौंक गए। भीतर जाकर देखा तो पाया कि सभी मूर्तियां चोरी हो चुकी है। उन्होंने शोर मचाना शुरू कर दिया। शोर सुनकर आसपास के काफी लोग पहुंच गए। सूचना मिलने पर औराई थाना की पुलिस भी मौके पर पहुंची और जांच पड़ताल शुरू की।

सौ साल पूर्व किया गया था स्थापित:

मंदिर के सेवक ने बताया कि इस मंदिर की स्थापना उनके पूर्वजों ने की है। करीब सौ साल पूर्व दूसरे प्रदेश से ये मूर्ति यहां लायी गयी थी। जिसकी स्थापना कर पूजा-पाठ शुरू किया गया। आजतक कभी इस मंदिर में चोरी की घटना नहीं घटी थी। ग्रामीणों की बहुत आस्था जुड़ी हुई थी। कोई भी शादी-ब्याह होने से पहले दूल्हा या दुल्हन दर्शन करने अवश्य आते थे।

कीमत का अनुमान नहीं लगा पा रहे:

ग्रामीण बताते हैं कि इतनी पुरानी अष्टधातु की मूर्ति बेसकीमती होती है। इसकी कोई कीमत नहीं होती है और न कोई इसका आकलन कर सकता है। ये मूर्ति करोड़ो रुपए की रही होगी। इधर औराई थानेदार राजेश कुमार ने बताया कि डॉग स्क्वाड की टीम से जांच करवाई जाएगी। इसमे कोई लाइनर जरूर होगा। जिसे इस मूर्ति की विशेषता के बारे में पता होगा। इसके अलावा वैज्ञानिक तरीके से भी जांच शुरू कर दी गयी है।