मुजफ्फरपुर / एसकेएमसीएच में चमकी बुखार के लक्षण वाले 4 बच्चे भर्ती, डॉक्टर बोले- एईएस नहीं

एसकेएमसीएच में भर्ती बच्चे। एसकेएमसीएच में भर्ती बच्चे।
X
एसकेएमसीएच में भर्ती बच्चे।एसकेएमसीएच में भर्ती बच्चे।

  • बुखार के साथ शरीर में ऐंठन की शिकायत के बाद बच्चों को किया गया भर्ती
  • डॉक्टर बोले- समय से अस्पताल पहुंचने वालों बच्चों की बच सकती है जान

दैनिक भास्कर

Mar 26, 2020, 11:50 AM IST

मुजफ्फरपुर.  तेज बुखार के बाद चमकी आने की शिकायत पर बुधवार की सुबह एसकेएमसीएच में चार बच्चों को भर्ती कराया गया। हालांकि, डॉक्टरों का कहना है कि एईएस में जिस तरह का चमकी बुखार होता है, वैसे लक्षण भर्ती हुए बच्चों में नहीं हैं। 

भर्ती बच्चों में मीनापुर के भटौलिया गांव का 8 वर्षीय यश कुमार राणा, करजा के रक्सा गांव का 4 वर्षीय उत्कर्ष आनंद, मुशहरी का चार वर्षीय निशांत कुमार और मोतिहारी जिले के पकड़ीदयाल के कुंडल गांव की चार वर्षीय सविता कुमारी है। सभी पीआईसीयू में भर्ती हैं। निशांत की मां पुनीता देवी ने बताया कि दो दिन से बुखार है। दम फुल रहा है। हल्की खांसी है। सविता कुमारी की मां उषा ने बताया कि बुखार के साथ शरीर में ऐंठन व दम फूलने की समस्या थी। 

समय से अस्पताल पहुंचने वालों बच्चों की बच सकती है जान
एसकेएमसीएच के शिशु रोग विभाग के एईएस विशेषज्ञ डॉ. गोपाल शंकर सहनी का मानना है कि चमकी बुखार एईएस का ही एक प्रकार है। इसके लक्षण दिखते ही अस्पताल में भर्ती कराने से जान बचाई जा सकती है। लक्षण व इलाज के बीच जितना कम समय लेगेगा, बचने की संभावना उतनी ही अधिक होगी।
गत वर्ष भी मार्च के अंतिम सप्ताह से बच्चों में चमकी बुखार की समस्या आने लगी थी। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2019 में चमकी बुखार से 142 बच्चों की मौत हो गई थी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना