पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सुरक्षा पर बड़ा सवाल:5 ने रची थी भागने की साजिश, गिनती में कम पड़ गए कैदी तो हुआ भागने का अंदेशा

मुजफ्फरपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बंदियों के दोबारा पकड़े जाने के बाद पुलिस पिटाई का वीडियो हुआ वायरल। - Dainik Bhaskar
बंदियों के दोबारा पकड़े जाने के बाद पुलिस पिटाई का वीडियो हुआ वायरल।
  • मोहल्ले के लोगों की सजगता और कीचड़-पानी होने के कारण बाहरी चहारदीवारी नहीं कर सके पार

शहीद खुदीराम बोस सेंट्रल जेल मुजफ्फरपुर के पीछे की चहारदीवारी फांद कर रविवार की शाम 5 कैदियों ने भागने की साजिश रची थी। जेल के बाउंड्रीवाल का एंगल तोड़ कर तीन गमछे के सहारे दो कैदी भाग भी निकले थे। लेकिन, तीन कैदी भागने में सफल नहीं हुए। क्याेंकि, तब तक कैदियाें-बंदियाें की गिनती का वक्त हाे गया।

घटना के संबंध में जेल अधिकारी का कहना है कि जुम्मन मियां उर्फ कनकटवा सरमस्तपुर कांटी, अभिषेक कुमार करजा थाना, रोशन कुमार सिंह नरगी जीवनाथ सरैया थाना, मोहम्मद आरिफ गोरौल वैशाली और मो. शाहनवाज चकभिखी मनियारी का रहने वाला है। सभी ने भागने की साजिश रची।

पांचों कैदी जेल की एक दीवार के सहारे मेन बाउंड्रीवाल तक पहुंच भी गए। बाउंड्रीवाल के एंगल और तार को काट दिया। तीन गमछों को जोड़ कर शातिर चोर जुम्मन मियां उर्फ कनकटवा और नाबालिग से दुष्कर्म का आरोपी अभिषेक मेन बाउंड्रीवाल से नीचे उतर गया। मेन बाउंड्रीवाल के बाद करीब सौ फीट की दूरी तक जंगल-झाड़ और पानी-कीचड़ है।

इसके बाद जेल की बाहरी छोटी दीवार है। जिस समय दोनों कैदी भाग रहे थे, उसी दौरान कैदियों को लॉकअप में बंद करने के दौरान पांच कैदी कम मिलने से जेल महकमे में हड़कंप मच गया। जेल परिसर में कैदियों की खोजबीन चल ही रही थी।

इसी दौरान 11वीं की छात्रा की नजर दाेनाें भागते कैदियाें पर पड़ गई। जेल प्रशासन को सूचना मिली। चारों तरफ से नाकाबंदी कर स्थानीय लोगों की मदद से पानी में उतर जेल के सुरक्षाकर्मियों ने दोनों को पकड़ लिया। अंदर में बाकी तीनों कैदी भी पकड़े गए। कैदियों की भागने की सूचना पर एसडीओ पूर्वी डॉ. कुंदन कुमार और टाउन डीएसपी रामनरेश पासवान भी पहुंचे। कैदियों से पूछताछ की गई।

महज 25 फीट दूर वाच पर टावर पर तैनात जवान की कैसे नहीं पड़ी भागते कैदियों पर नजर

शहीद खुदीराम बोस केंद्रीय कारा की सुरक्षा पर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। मेन बाउंड्रीवाल पर जहां गमछा लटका कर दोनों कैदी भागे, वहां से महज 25 फीट की दूरी पर जेल का वाच टावर है। सबसे बड़ा सवाल यह है कि वाच टावर पर तैनात जवान आखिर कहां थे या किस की निगरानी कर रहे थे? पांच-पांच कैदियों के भागने की साजिश थी। दाे-दाे बाउंड्रीवाल पर चढ़ कर भाग भी निकले। बावजूद किसी सुरक्षाकर्मी को भनक क्यों नहीं लग सकी? वैसे जेल प्रशासन का दावा है कि इसकी पड़ताल की जा रही है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

    और पढ़ें