पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • 6 Years Ago, When The Son Who Got Separated In The Bus Was Found Here In The Children's Home, Then The Eyes Of The Mother Spilled With Happiness, The Father Filled His Arms

माता-पिता ने स्वयं की पहचान:6 साल पहले बस में बिछुड़ा बेटा यहां बाल गृह में मिला तो खुशी से छलक पड़ीं मां की आंखें, पिता ने बाहों में भर लिया

मुजफ्फरपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कागजी प्रक्रिया पूरी हाेने के बाद आज उन्हें सौंप दिया जाएगा उनका लाल

छह वर्ष पहले बस में बिछड़े मूकबधिर बच्चे काे आखिर माता-पिता ने शनिवार काे मुजफ्फरपुर में ढूंढ़ लिया। इसके बाद दाेंनाें की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। सिकंदरपुर स्थित बाल गृह में बेटे से जब मां की नजरें मिलीं ताे खुशी से आंखें छलक पड़ीं। बेटा भी मां काे पहचान कर उछल पड़ा। पिता ने उसे बाहाें में भर लिया।

दरअसल, यह बच्चा 6 वर्ष से यहां रह रहा था। परिजनाें के अनुसार, 2015 में वह किशनगंज से बस में बिछड़ गया था। इसके बाद व शिवहर चला गया था। शिवहर पुलिस ने उसे लावारिस हालत में पाए जाने पर सिकंदरपुर स्थित बाल गृह भेज दिया था। बच्चे के परिजनाें के अनुसार, इस बीच वह जगह-जगह बच्चे की खाेजबीन करते रहे और आखिर में शनिवार काे उन्हें सफलता मिली। अब बेटे को घर ले जाने के लिए आवश्यक प्रक्रिया पूरी कर रहे हैं। वहीं, सोमवार को बच्चे को माता-पिता को सौंप दिए जाने की उम्मीद है।

2015 में शिवहर की पुलिस ने इसे यहां पर भेजा था : निदेशक
बाल संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक उदय कुमार झा ने बताया, 2015 में शिवहर पुलिस ने 9 साल के इस मूकबधिर बच्चे को बाल गृह में भेजा था। इसके बाद से वह यहीं पर रह रहा था। अखबारों में विज्ञापन प्रकाशित कराने के बाद भी माता-पिता का पता नहीं चला। इस बीच उसके माता-पिता ढूंढ़ते हुए बाल गृह पहुंचे और बच्चे की पहचान कर ली। सहायक निदेशक ने बताया कि आवश्यक प्रक्रिया पूरी करने के बाद बच्चे काे माता-पिता काे सौंपा जाएगा।

किशनगंज में उनसे बिछुड़ गया था मूक-बाधिर
बच्चे की मां ने बताया कि बस में वे लोग किशनगंज से एक रिश्तेदार के यहां जा रहे थे। इसी दौरान बच्चा बस से उतर नहीं पाया और उनसे बिछड़ गया। इसके बाद वह बिहार और नेपाल के सैकड़ों स्थानों पर बेटे की खाेज करते रहे। लेकिन कहीं भी बच्चे की खाेज-खबर नहीं मिल रही थी। अब बेटे के मिलने के बाद वह बेहद खुश हैं।

खबरें और भी हैं...