पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • 780 Jobs Distributed Arbitrarily By Taking Money In Health Department, Reinstatement Canceled After Investigation, Recommendation Of Action On Civil Surgeon

नियोजित कर्मियों का हंगामा, आज डीएम का घेराव:स्वास्थ्य विभाग में पैसे लेकर मनमाने ढंग से बांटी गईं 780 नौकरियों की जांच के बाद बहाली रद्द, सिविल सर्जन पर कार्रवाई की सिफारिश

मुजफ्फरपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल में प्रदर्शन करते नवनियुक्त अभ्यर्थी। - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल में प्रदर्शन करते नवनियुक्त अभ्यर्थी।
  • जांच कमेटी की अनुशंसा पर कार्रवाई; डाॅक्टर, एएनएम, वार्ड बॉय, डाटा इंट्री ऑपरेटर का 3 माह के लिए हुआ था नियोजन

मुजफ्फरपुर में जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा सदर अस्पताल व स्वास्थ्य केंद्राें में 780 पदों पर हुए नियाेजन को गुरुवार काे रद्द कर दिया गया। चिकित्सक व पारा मेडिकल स्टाफ के पदाें पर हाल में हुई इन सभी बहालियाें काे सीएस डॉ. एसके चौधरी ने नियाेजन की तिथि से ही रद्द कर दिया। नियोजन में बड़े पैमाने पर धांधली-रिश्वतखोरी की शिकायत व एक आवेदक का ऑडियो वायरल होने के बाद डीएम ने जांच कमेटी गठित की थी।

डीडीसी के नेतृत्व में गठित जांच कमेटी ने नियाेजन में भारी गड़बड़ी बताते हुए बुधवार काे नियाेजन रद्द करने की अनुशंसा की थी। इसके बाद डीएम ने सीएस को आदेश जारी किया। डीएम प्रणव कुमार ने मुख्यालय को बहाली प्रक्रिया में भारी अनियमितता की रिपोर्ट भेज सरकार से सिविल सर्जन पर कार्रवाई की अनुशंसा की है। यह पूछने पर कि क्या निलंबन के लिए विभाग को लिखा गया है, डीएम ने कहा- विभाग अपने स्तर पर जो निर्णय ले। एक ऑडियो उनके संज्ञान में आया था, लेकिन उस पर क्या कार्रवाई हुई यह पता नहीं है।

अनदेखी -नियाेजन में अभ्यर्थियों की मेरिट, अनुभव और तकनीकी कौशल की भी परख नहीं

डीएम ने यह भी कहा है कि नियाेजन में मेरिट, अनुभव व तकनीकी कौशल पर ध्यान नहीं दिया गया। मसलन- डाटा इंट्री ऑपरेटर का नियोजन बिना किसी तकनीकी जांच के कर लिया गया। नियाेजन प्रक्रिया पारदर्शी भी नहीं रखी गई। इससे स्पष्ट है कि नियोजन प्रक्रिया में गड़बड़ी हुई है।

राज्य स्वास्थ्य मुख्यालय ने सीएस को बढ़ते कोरोना काल में आवश्यकता के अनुसार डाॅक्टर, एएनएम, जीएनएम, वार्ड बॉय, डाटा इंट्री ऑपरेटर अादि का नियोजन 3 महीने के लिए करने का निर्देश दिया था। सीएस कार्यालय ने दीवार पर ही वैकेंसी चस्पा कर 780 पदों पर नियाेजन कर लिया। नियाेजन में शुरू से ही गड़बड़ी की शिकायत आने लगी। फिर एक महिला आवेदक से 30 हजार मांगने का ऑडियो वायरल हुआ।

सीएस कार्यालय का भी घेराव करेंगे कर्मचारी
नियाेजन रद्द किए गए कर्मियाें ने सदर अस्पताल परिसर में व सड़क पर जमकर हंगामा किया। इन लाेगाें ने कहा कि जिस पद पर उनकी बहाली हुई है उसके पूरे कागजात उनके पास हैं। उन्होंने कहा कि शुक्रवार को डीएम व सीएस कार्यालय का घेराव किया जाएगा।

सिविल सर्जन बोले-20 दिनाें के काम का नहीं मिलेगा मानदेय
सिविल सर्जन ने बताया कि अगले कुछ दिनों में राज्य स्वास्थ्य समिति बड़ी संख्या में बहाली निकालने वाली है। इस मानव बल में जो भी लोग उस बहाली में आवेदन करेंगे, उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी। साथ ही सभी लोगों को कोरोना काल में काम करने के लिए प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा। यह पूछे जाने पर कि नियाेजित लाेगाें काे 20 दिनों के कार्य का मानदेय मिलेगा या नहीं। इस पर सीएस ने कहा कि नियोजन की तिथि से ही नियुक्ति रद्द की गई है। ऐसे में एक दिन का भी भत्ता या मानदेय नहीं मिलेगा।

खबरें और भी हैं...