पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सड़क पर जिंदगी:कोरोना के बाद अब बाढ़ ने सब कुछ छीना, अपने भी शरण देने से कतरा रहे

मुजफ्फरपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एसकेएमसीएच के पीछे वन विभाग, डॉक्टर कॉलोनी व सहबाजपुर में भी घुसा बाेचहां और मीनापुर से आया बाढ़ का पानी

पहले कोरोना को लेकर मजदूरी छूटी। फसल लगाई, सोचा जीवन-यापन कर लेंगे। लेकिन, बाढ़ में सब कुछ बर्बाद हाे गया। पूरा परिवार घर छोड़ फोरलेन पर प्लास्टिक के तंबू में रहने काे मजबूर हैं। बारिश से तो किसी तरह बच जाते हैं, पर तेज धूप में बेचैनी बढ़ जाती है। यह पीड़ा विजयी छपरा के बाढ़ प्रभावित राजा सहनी की है। राजा बताता है कि इस बार पानी और दोगुना हो गया। अब बच्चों और मवेशियों पर भी फोरलेन पर हमेशा खतरा बना रहता है। ऐसी ही परेशानी शोभा देवी, अर्चना देवी, धर्मशीला देवी, पप्पू सहनी, शत्रुघ्न सहनी समेत दो हजार से अधिक परिवारों की भी है।

पहले ही अखाड़ाघाट और दादर के साथ संगमघाट बूढ़ी गंडक में बाढ़ के पानी से जीरोमाइल, विजयी छपरा, रसूलपुर और मिठनसराय के ग्रामीण परेशान थे। अब मीनापुर इलाके से झपहां, जमालाबाद होते हुए सोनियापुर, एनएच 57 विजयी छपरा, भिखनपुर और रसूलपुर वाजिद के उत्तरी और दक्षिणी छोर के लोग भी बाढ़ की चपेट मे आ गए हैं। मेडिकल फ्लाईओवर से पहाड़पुर एनएच-57 के बीचों-बीच लोग झोपड़ी और प्लास्टिक के तंबू बना रह रहे हैं। लगभग 5 किलोमीटर तक तंबू गड़े हैं। विजयी छपरा बांध पर भी लोग रह रहे हैं। दर्जनों परिवार बाढ़ के बावजूद ऊंचे मकानों में डटे हैं। बोचहां और मीनापुर से आई बाढ़ का पानी अब एसकेएमसीएच के पीछे वन विभाग, डॉक्टर कॉलोनी, सहबाजपुर, वीणुनगर समेत आधा दर्जन मोहल्लों में पानी प्रवेश कर चुका है।

कोरोना संक्रमण के कारण अब फाेन तक नहीं उठा रहे रिश्तेदार

कोरोना संक्रमण को देखते हुए बाढ़ ग्रसित परिवारों काे लोग शरण नहीं दे रहे हैं। रूपेश कुमार, राजू और मंटुन समेत अनेक पीड़िताें ने बताया कि उनके रिश्तेदार का घर शहर के ऊंचे इलाकों मे है। वे पहले हालचाल लेते रहते थे। लेकिन, अब बाढ़ की जानकारी मिलने के बाद फाेन तक नहीं उठा रहे हैं।

एसकेएमसीएच में भर्ती मरीजाें की भी बढ़ी परेशानी बाढ़ के कारण डिस्चार्ज नहीं करने की कर रहे मिन्नत

एसकेएमसीएच के मदर चाइल्ड हॉस्पिटल व अन्य वार्डों में औराई, शिवहर और रून्नीसैदपुर के दो दर्जन से अधिक मरीज भर्ती हैं। इनका गांव बाढ़ के पानी से घिरा हुआ है। सबसे अधिक परेशानी नॉर्मल डिलेवरी के मरीजों को हो रही है। डिलेवरी के अगले ही दिन छुट्टी मिलने के कारण एसकेएमसीएच के आसपास किराए का मकान ढूंढ़ रहे हैं। सीजेरियन वाली प्रसूताओं के परिजन डॉक्टरों से कुछ दिन और डिस्चार्ज नहीं करने की मिन्नत कर रहे हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि के लिए ग्रह गोचर बेहतरीन परिस्थितियां तैयार कर रहा है। आप अपने अंदर अद्भुत ऊर्जा व आत्मविश्वास महसूस करेंगे। तथा आपकी कार्य क्षमता में भी इजाफा होगा। युवा वर्ग को भी कोई मन मुताबिक क...

और पढ़ें