पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • After The Fraudulent Withdrawal Of Five Crores From The Accounts, The Customers Claimed To Have Refunded The Money On PNB, With The Help Of The Cashier, The Cyber Gang Had Blown Away The Money Of 4 Dozen Customers.

उपभाेक्ता फाेरम का बैंक काे नाेटिस:खातों से हुई पांच कराेड़ की फर्जी निकासी के बाद ग्राहकों ने पीएनबी पर रुपए लाैटाने का ठोंका दावा, कैशियर की मदद से साइबर गिराेह ने 4 दर्जन ग्राहकों के उड़ा लिए थे रुपए

मुजफ्फरपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कैशियर की मदद से साइबर अपराधियाें द्वारा 45 से अधिक ग्राहकाें के खाते से 5 कराेड़ से अधिक की निकासी के मामले में ग्राहकाें ने अब पंजाब नेशनल बैंक पर रुपए वापसी का दावा ठाेंक दिया है। इसके लिए कई ग्राहकाें ने जिला उपभाेक्ता फाेरम में वाद दायर किया है।

फ्राॅड के शिकार कांटी निवासी रिटायर्ड बीएसएनएल कर्मी रामदेव राम के खाते से 22.4 लाख रुपए की अवैध निकासी काे लेकर उपभाेक्ता फाेरम ने पीएनबी काे नाेटिस किया है। पीएनबी के अंचल प्रबंधक व जवाहरलाल राेड के शाखा प्रबंधक काे 18 अक्टूबर काे हाेनेवाली अगली सुनवाई से पहले इसका जवाब देना है।

इसके अलावा सदर थाने के शिवपुरी माेहल्ला निवासी रिटायर्ड महिला प्राेफेसर मीना कुमारी ने भी उपभाेक्ता फाेरम के जरिए खाते एे उड़ाए गए 1.07 कराेड़ रुपए की वापसी का दावा किया है। हालांकि, इस मामले में अभी बैंक काे नाेटिस जारी नहीं किया गया है।

कांटी के विशुनपुरदत्त निवासी रामदेव राम ने बीते 27 जुलाई को दोनों अधिकारियों के खिलाफ फोरम में परिवाद दर्ज कराया था। उनका आरोप है कि उनका पंजाब नैशनल बैंक की जवाहरलाल रोड शाखा में खाता है। खाते से बीते 29 जून को 5-5 लाख 4 बार व अगले दिन 2 लाख 40 हजार निकाल लिए गए थे।

इसी कांड में गाेबरसही स्थित पीएनबी की साइंस काॅलेज शाखा के कैशियर नीतेश कुमार व उसके 3 अन्य साथियाें काे गिरफ्तार किया गया था। उसने फ्राॅड के तरीके से लेकर गैंग से जुड़ीं अन्य जानकारियां पुलिस काे दी हैं।

रिटायर्ड महिला प्राेफेसर के 1.07 कराेड़ और रिटायर्ड बीएसएनएल कर्मी के निकाल लिए गए थे 22.4 लाख

खाते से लिंक्ड माेबाइल पर डुप्लीकेट सिम लेकर नेट बैंकिंग के जरिए खाते में करता था सेंधमारी
बैंक कैशियर नीतेश कुमार ग्राहकाें के खाते का पूरा ब्याेरा साइबर गिराेह के मास्टर माइंड काे उपलब्ध कराता था। उसके बाद गिराेह के सदस्य राजेश और मयंक फर्जी आधार कार्ड पर खाते से लिंक्ड माेबाइल नंबर का डुप्लीकेट सिम निकालता था। ये सिम सदातपुर के जफर इकबाल काे दिए जाते थे जाे माेबाइल बैंकिंग ऐप से ग्राहक के खाते से रुपए निकाल लेता था।

कैशियर व उसके साथियाें ने गिरफ्तारी के बाद दिए स्वीकाराेक्ति बयान व पुलिस काे उनके पास से मिले कागजात के अनुसार 45 ग्राहकाें के खाते से 5 कराेड़ रुपए उड़ाए गए थे। इनमें छपरा के 4 ग्राहक, सीतामढ़ी के 2, उत्तर प्रदेश के एक सांसद और पांच अन्य समेत मुजफ्फरपुर के ग्राहकाें के खाते से रुपए उड़ाए गए।

पुलिस के चेताने पर भी डुप्लीकेट सिम देने
में सतर्कता नहीं बरत रहीं माेबाइल कंपनियां

कांड के खुलासे के बाद एसएसपी जयंत कांत ने माेबाइल कंपनियाें के सिम डीलर काे नाेटिस भेज डुप्लीकेट सिम देने से पहले ग्राहकाें का गहराई से सत्यापन करने को कहा था। लेकिन, डुप्लीकेट सिम जारी करने में माेबाइल सिम विक्रेता नहीं चेते हैं। आधार कार्ड के फाेटाे स्टेट पर सिम दिया जा रहा है।

एसएसपी ने आरबीआई व पीएनबी के जाेनल मैनेजर काे भी बताया था कि किसी ग्राहक के खाते का बैंक का काेई भी कर्मचारी कैसे सारा डिटेल देख लेता है, इस व्यवस्था में सुधार हाे। नहीं ताे ग्राहकाें के खाते के रुपए सुरक्षित नहीं रहेंगे। पूरे देश में कहीं से भी काेई बैंककर्मी साइबर अपराधियाें से मिलकर ऐसे फ्राॅड कर सकता है।

पीएनबी के साइंस काॅलेज ब्रांच में 13 दिनाें से नहीं आ रही मैनेजर
बीते 23 अगस्त से पंजाब नेशनल बैंक की साइंस काॅलेज की शाखा प्रबंधक कंचन कुमारी बैंक नहीं अा रही हैं। 21 अगस्त काे एसएसपी जयंत कांत के नेतृत्व में एक दर्जन से अधिक पुलिस अधिकारियाें ने साइंस काॅलेज शाखा में कैशियर नीतेश कुमार से घटना रीक्रिएट करवाया था। उसके दूसरे दिन से मैनेजर ब्रांच में लगातार नहीं आ रही हैं।

उन्हाेंने बताया कि वह छुट्टी पर हैं। छुट्टी के लिए आंचलिक हेड काे मेल भेज दिया था। जबकि, बैंक के सेकंड मैन वीरेश कुमार का कहना है कि मैनेजर क्याें नहीं आ रही हैं, इसकी जानकारी उन्हें नहीं है।

खबरें और भी हैं...