• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • Banking Services Were Completely Stalled Due To The Strike Of Trade Unions, The Transaction Of 3 Thousand Crores Stopped In The District

कार्यालयों में लटके ताले:ट्रेड यूनियनों की हड़ताल के कारण बैंकिंग सेवाएं पूरी तरह ठप रहीं, जिले में 3 हजार करोड़ का ट्रांजेक्शन रुका

मुजफ्फरपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एलआईसी के मंडल कार्यालय में प्रदर्शन करते कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
एलआईसी के मंडल कार्यालय में प्रदर्शन करते कर्मचारी।
  • राष्ट्रव्यापी आह्वान पर बैंक, डाकघर, बीएसएनएल, बीमा कंपनियों के कार्यालयों में ताले लटके रहे

सरकारी उपक्रमों के निजीकरण, महंगाई एवं केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के राष्ट्रव्यापी हड़ताल का शहर के बाजारों पर कुछ खास तो नहीं लेकिन बैंकिंग सेवाओं पर गहरा असर पड़ा। बैंक, डाकघर, बीएसएनएल, बीमा कंपनियों के कार्यालयों में ताले लटके रहे। जिले में तक़रीबन 3000 हजार करोड़ का बैंकिंग कारोबार प्रभावित हुआ।

ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन के संयुक्त सचिव डीएन त्रिवेदी ने कहा कि हड़ताल के कारण लेन-देन नहीं हुए। करीब 1000 करोड़ का चेक क्लीयरेंस भी नहीं हुआ। एआईयूटीयूसी, एटक, इंटक, टीयूसीसी एवं अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ (सेवांजलि) समेत विभिन्न ट्रेड यूनियनों के नेता खुदीराम बोस स्मारक पर जुटे और वहां से मार्च निकालते हुए एलआईसी कार्यालय पहुंचे, जहां सभा का आयोजन किया गया।

एआईयूटीयूसी के जिला मंत्री मो. इदरीश ने कहा कि रेल, बैंक, बीमा सहित सभी सार्वजनिक संस्थाओं को पूंजीपतियों के हवाले किया जा रहा है। मजदूर व किसान विरोधी कानून रद्द नहीं हुए तो शीघ्र पूर्ण नाकेबंदी की घोषणा होगी। प्रदर्शन में एसयूसीआई कम्युनिस्ट के जिला सचिव अर्जुन कुमार, एआईकेकेएमएस के जिला सचिव लालबाबू महतो, एटक के भरत झा, इंटक के मधुसूदन झा, टीयूसीसी के हबीब अंसारी, मो. युनूस, रामनरेश ठाकुर, महेश चौधरी, उदय ठाकुर, अजय कुमार सिंह, शत्रुघ्न पांडे, प्रदीप कुमार पांडे, एलआईसी के संजय कुमार, अजीत कुमार झा, एआईडीएसओ के राज्य सचिव विजय कुमार व जिलाध्यक्ष शिव कुमार, एआईबीइए एवं एआईबीओए की तरफ से मृत्युंजय मिश्रा, सरोज कुमार, अंजनी कुमार शर्मा, देव कुमार सिंह, रूपेश कुमार शामिल हुए।

बेला के 60 प्रतिशत से अधिक उद्योगों में उत्पादन प्रभावित
हड़ताल के कारण बेला के 60 प्रतिशत से अधिक उद्योगों में उत्पादन प्रभावित रहा। बेला इंडस्ट्रियल लेबर यूनियन के नेता कमलेश दास, सुरेंद्र दास, भोला रजक, सुरेंद्र सहनी के नेतृत्व में बेला फेज-1 व 2 में जुलूस निकाल कारखानों को बंद कराया।

376 बैंक शाखाओं में लटके ताले, एटीएम में भी नहीं लोड हुआ कैश
हड़ताल के कारण जिले की 376 शाखाओं में ताले लटके रहे तो एटीएम में भी कैश लोड नहीं हुआ। दोपहर बाद 70 प्रतिशत से अधिक एटीएम कैश आउट होने से एटीएम बूथ के शटर गिर गए। लोग पैसे की निकासी के लिए भटकते रहे।
दर्जनों बुजुर्ग रेडक्रॉस शाखा से लौटे: हड़ताल में एसबीआई के कर्मचारी शामिल नहीं थे। क्लब रोड शाखा में काम भी हुआ। लेकिन रेडक्रॉस शाखा को हड़ताल समर्थकों ने बंद करा दिया। लाइफ सर्टिफिकेट के लिए दर्जनों बुजुर्ग दूर-दूर से पहुंचे थे। उन्हें लौटना पड़ा।

खबरें और भी हैं...