मिशन अमृत सरोवर जल धरोहर संरक्षण:10 लाख की अनुमानित लागत से सौंदर्यीकरण समेत अन्य सुविधाएं होंगी बेहतर

मुजफ्फरपुर2 महीने पहलेलेखक: प्रशांत कुमार
  • कॉपी लिंक
बेतिया का ऐतिहासिक सागर पोखरा जिसका किया जाना है संवर्द्धन। - Dainik Bhaskar
बेतिया का ऐतिहासिक सागर पोखरा जिसका किया जाना है संवर्द्धन।

मिशन अमृत सरोवर जल धरोहर संरक्षण के तहत एमआईटी के स्टूडेंट्स ने बेतिया के सागर पोखर के संरक्षण और संवर्द्धन की योजना तैयार की है। लगभग 10 लाख रुपए की लागत से इसे संरक्षित किया जा सकेगा। यहां जल प्रदूषण को दूर कर पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नौका विहार शुरू किए जाने का प्रस्ताव दिया गया है।

वहीं तालाब के किनारों में पौधरोपण करने, टॉयलेट का निर्माण कराए जाने संबंधी अन्य प्रस्ताव स्टूडेंट्स की ओर से तैयार किए गए हैं। एआईसीटीई और शहरी विकास मंत्रालय की ओर से शुरू किए गए इंटर्नशिप प्रोग्राम के लिए एमआईटी के स्टूडेंट्स को सागर पोखर के संरक्षण की जिम्मेदारी सौंपी गई। इसके तहत देश के ऐतिहासिक महत्व वाले 237 तालाबों-जलाशयों के संरक्षण की जिम्मेदारी इंजीनियरिंग कॉलेज के स्टूडेंट्स को सौंपी गई है। स्थानीय जल स्रोतों के संरक्षण में युवाओं और स्थानीय निकायों की भागीदारी के लिए इस मिशन की शुरुआत की गई।  एमआईटी की टीम बेतिया पहुंची और सागर पोखर का अध्ययन किया। यहां स्टूडेंट्स ने माना कि सागर पोखर के पानी को शुद्ध करने की जरूरत है। यहां की गंदगी के कारण मछलियां किनारे पर मरी हुई मिली। पानी में मरा हुआ जानवर फेंका गया था। इस कारण जल प्रदूषण का स्तर काफी ज्यादा था। कोर्डिनेटर डॉ. आकाश प्रियदर्शी, डॉ. अतुल कुमार राहुल और डॉ. शिवांशु शेखर ने बताया कि ऐतिहासिक महत्व वाले तालाबों के संरक्षण के लिए स्टूडेंट्स की भागीदारी सुनिश्चित किया गया है। 12-15 अगस्त तक 15 स्टूडेंट्स वहां पहुंचकर पोस्टर के जरिए जागरूकता फैलाएंगे।

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए यहां जल प्रदूषण दूर कर शुरू होगा नौका विहार

टीम में हैं सिविल के ये स्टूडेंट्स

  • अभिषेक गुलशन
  • आदित्य भारद्वाज
  • आदित्य राज
  • भागवत मिश्रा
  • ज्ञान गौरव
  • हर्ष राज
  • कृति कुमारी
  • पवन कुमार
  • प्रशांत सिन्हा
  • रवि कुमार
  • सौरभ
  • सोनम कुमारी
  • शुभम कुमार आनंद
  • शुभम कुमार
  • सुनील कुमार।

इंटर्नशिप योजना के लिए हर संस्थान को भेजे गए 2 लाख

एआईसीटीई इंटर्नशिप योजना के लिए हिस्से के रूप में पहल की अवधि के लिए भाग लेनेवाले छात्रों (15 छात्रों की टीम) को 10 हजार और प्रत्येक संस्थान के नोडल अधिकारी आईएनओ) को 30 हजार रुपए मिले हैं। इससे छात्र शोध और विश्लेषण में टीमों को सलाह, समर्थन और सुविधा देने की जिम्मेदारी लेंगे। यात्रा व्यय, अन्य परियोजना संबंधी लागत के लिए प्रत्येक संस्थान आईएनओ/मेंटर को 20 हजार मिले हैं। प्रत्येक संस्थान को 2 लाख की राशि (एक लाख अग्रिम और इंटर्नशिप पूरा होने के बाद 1 लाख रुपए) भाग लेने वाले छात्रों के लिए भेजी जा चुकी है।

शिव के जलाभिषेक को पोखर से जल लेने सुरंग से आती थीं महारानी

यहां बेतिया राज के कई रहस्य छिपे हैं। यहां की भौगोलिक संरचना किसी झील से कम नहीं है। पास में मनोकामना शिव मंदिर से इसकी खूबसूरती और बढ़ जाती है। तालाब से बेतिया राजमहल तक एक सुरंग है। कथा यह है कि सुरंग के अंदर से शाही परिवार की रानी यहां पहुंचती थीं और सागर पोखरा के तालाब के पवित्र जल से शिव का अभिषेक करती थीं। फिर से सुरंग के माध्यम से शीशमहल में लौट आती थी। शाही परिवार के अंत के बाद सुरंग को सुरक्षा के मद्देनजर बंद कर दिया गया। यह शिव मंदिर के सामने सागर पोखरा के पश्चिम की ओर अवशेष के रूप में जीवित है।

छात्रों ने दिए हैं ये सुझाव

  • घरेलू इस्तेमाल वाले पानी को उस तालाब में गिरने से रोका जाए।
  • पानी की शुद्धता के लिए रासायनिक तरीकों का सहारा लिया जाए
  • तालाब के किनारे-किनारे काफी मात्रा में कचरा मिला। इससे निजात के लिए सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के तरीके बताए गए।
  • पब्लिक टॉयलेट की कमी है। ऐसे में यहां इसका निर्माण कराया जाए
  • चारों तरफ किनारों पर गार्डनिंग से लेकर पौधरोपण कराया जाए
  • तालाब से मंदिर सटा हुआ होने के कारण वहां पर पेड पार्किंग की व्यवस्था की जाए
  • पर्यटक यहां पर आएंगे तो स्थानीय स्तर पर राशि भी आएगी
  • पर्यटन के लिए यहां नौका विहार शुरू किया जाए, ताकि लोग आएं
  • अलग-अलग तरीके की मछलियों को तालाब में डाला जाए ताकि लोग उसे देखने के लिए भी आएं
  • सौंदर्यीकरण और संरक्षण के लिए बताई गई राशि
  • यहां फुटपाथ का निर्माण : 5.68 लाख रुपए (अनुमानित राशि)
  • गार्डनिंग : साढ़े चार हजार रुपए
  • बोटिंग : 2.40 लाख रुपए
  • बोट स्टेशन और टिकट काउंटर पर खर्च होंगे 57 हजार रुपए
  • मजदूरी पर खर्च होंगे 13 हजार
  • पार्क बनाए जाने पर : 52 हजार
  • शहरी टॉयलेट की व्यवस्था किए जाने पर - 10 हजार रुपए।
खबरें और भी हैं...