शराब तस्करों को ढील देने वाले अधिकारियों पर होगी कार्रवाई:मुजफ्फरपुर में शिथिलता बरतने वाले थानेदार और IO पर होगी कार्रवाई, तिरहुत रेंज के IG करेंगे समीक्षा

मुजफ्फरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तिरहुत रेंज के आईजी अनिल कुमार सिंह। - Dainik Bhaskar
तिरहुत रेंज के आईजी अनिल कुमार सिंह।

शराब माफियाओं और पियक्कड़ों के खिलाफ कार्रवाई करने में शिथिलता बरतने वाले थानेदार और IO पर कार्रवाई होगी। तिरहुत रेंज के IG गणेश कुमार शराब मामले में लंबित कांडों की समीक्षा करेंगे। इसे लेकर मुजफ्फरपुर, वैशाली, शिवहर और सीतामढ़ी SP को निर्देश दिया गया है। शीघ्र ही समीक्षा की जाएगी। इस दौरान जिस थानेदार या IO की लापरवाही सामने आएगी। उनपर कार्रवाई तय मानी जा रही है। बता दें कि वैशाली के लालगंज थानेदार के खिलाफ EOU की कार्रवाई के बाद पुलिस महकमे में खलबली मची हुई है। थानेदार की शराब माफियाओं से संलिप्तता सामने आने के बाद अन्य जिलों में भी कार्रवाई करने की कवायद की जा रही है।

पियक्कड़ों पर करना है फोकस :

पियक्कड़ों को जेल भेजने के बाद थानेदार और IO चुप बैठ जाते हैं। जबकि IG का कहना है कि शराब के कारोबारियों तक पहुंचने की मुख्य कड़ी वही पियक्कड़ होते हैं। उन्हें पता होता है कि शराब कहाँ और किसके पास मिलती है। लेकिन, एक भी मामले में ऐसा नहीं देखा गया कि पियक्कड़ से पूछताछ की गई हो और उसी अनुसार पुलिस मुख्य कारोबारी तक पहुंची हो। इस बिंदु पर भी समीक्षा की जाएगी।

सम्पत्ति जब्ती की कार्रवाई भी धीमी :

बता दें कि जिले में हाल के दिनों में दो दर्जन से अधिक शराब के बड़े धंधेबाज़ों की गिरफ्तारी हुई है। स्प्रिट से शराब बनाने वाले भी पकड़े गए हैं। इससे पूर्व भी कई बड़े माफिया गिरफ्तार हुए थे। लेकिन, इनके संपत्ति का आकलन करना और फिर जब्ती की कार्रवाई काफी धीमी है। इस कारण धंधेबाज़ों का मनोबल नहीं टूट रहा है। उनके जेल जाने के बाद कोई दूसरा उस सिंडिकेट को संभाल रहा है, या वह जेल के अंदर से कारोबार चला रहा है। जिसके बारे में हाल में जानकारी मिली थी। जब जेल के अंदर शराब धंधेबाज़ के पास से मोबाइल मिला था। इन सभी बिंदुओं पर बारीकी से समीक्षा की जाएगी।