लूट रोकने के लिए 36 घंटे से एक्टिव थी पुलिस:मुजफ्फरपुर में दो दिन पहले ही पुलिस को लगी थी भनक, छह घंटे तक बैंक में ग्राहक बन डटी रही

मुजफ्फरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की गोली से घायल अपराधी अस्पताल में भर्ती। - Dainik Bhaskar
पुलिस की गोली से घायल अपराधी अस्पताल में भर्ती।

मुजफ्फरपुर के मोतीपुर स्थित पचरुखी बैन ऑफ बड़ोदा की शाखा को लूटने से बचाने के लिए 36 घन्टे से पूरा पुलिस डिपार्टमेंट एक्टिव था। इस लूटकांड के मास्टरमाइंड रूपेश सिंह का मोबाइल सर्विलांस पर था। रूपेश और उसके गिरोह ने 20 मई 2021 तुर्की में एक कंस्ट्रक्शन कम्पनी के साइट पॉइंट पर फायरिंग भी किया था। वह अबतक फरार है। उसी के मोबाइल से पुलिस को सुराग मिला कि बैंक लूट की घटना को ये गिरोह अंजाम देने वाला है। लेकिन, दिन और समय तय नहीं था। पुलिस लगातर रूपेश के मोबाइल का लोकेशन और उसपर आने वाले सभी कॉल को फॉलो कर रही थी। सोमवार को पक्की सूचना मिल गयी कि आज बैंक लूटने वाला है। आननफानन में SSP जयंतकांत ने टीम तैयार की और खुद भी सिविल ड्रेस में पहुंचे। DSP पूर्वी मनोज पांडेय, मोतीपुर थानेदार अनिल कुमार और SIT की टीम भी ग्राहक बनकर बैंक के चारों तरफ फैल गयी। थानेदार एक टीम के साथ बैंक के भीतर ग्राहक बनकर रेकी करने लगी। सुबह दस बजे से पुलिस ने घेराबंदी कर ली थी। लेकिन, अपराधी शाम चार बजे पहुंचे और मुठभेड़ शुरू हुआ। पुलिस को सक्रियता और कड़ी मेहनत ने बैंक लूट की घटना को असफल कर दिया।

अपराधियों में मीनापुर व कांटी के रहने वाले :

एसएसपी ने बताया कि घायल अपराधियों में मीनापुर के पानापुर निवासी धीरज कुमार, कांटी के साइन निवासी प्रशांत कुमार व मीनापुर के खरहर निवासी वंसल कुमार शामिल है। मरने वाले अपराधी की पहचान मीनापुर के हरसेर के प्रिंस कुमार के रुप में की है। पुलिस ने उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया गया है। सभी अपराधियों का अपराधिक इतिहास है। लूटपाट और हत्या के मामले में वांटेड है। इनमें से कुछ हाल में ही जेल से भी बाहर जमानत पर छुटा था।

एक महिला के शामिल होने की चर्चा :

बैंक लूटकांड में एक महिला के शामिल होने की भी चर्चा है। कहा जा रहा है वह लूटेरों के साथ बाइक से सलवार सूट पहनकर आयी थी। लेकिन, जब फायरिंग शुरू हुई तो वह भाग निकली। हालांकि, पुलिस को इसके ठोस सुराग नहीं मिले हैं। लेकिन, स्थानीय लोग इसकी चर्चा कर रहे हैं।

मोतीपुर में दो साल पूर्व हुआ था मुठभेड़ :

2019 में भी मोतीपुर में बाइक एजेंसी लूटने पहुंचे लूटेरों से पुलिस की मुठभेड़ हुई थी। उस दौरान भी एक लूटेरे को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था। इससे पूर्व मनियारी में बैंक लूटने के दौरान भी पुलिस और लूटेरों में एनकाउंटर हुआ था। इसमे भी शातिर भूलन मारा गया था।

SSP ने गठित की SIT :

घटना में शामिल फरार लूटेरों और मास्टरमाइंड रूपेश की गिरफ्तारी को लेकर SSP ने SIT का गठन किया है। DSP पूर्वी के नेतृत्व में छह सदस्यीय टीम बनाई गई है, जो मोतीपुर, मीनापुर, कांटी और मोतिहारी में छापेमारी कर रही है। फरार लूटेरे भी इन्हीं इलाकों के रहने वाले बताये गए हैं। सभी के घर जाकर टीम पूछताछ कर रही है। चार संदिग्धों को उठाया गया है। फरार लूटेरों के परिजन पर भी दबिश बनाया जा रहा है। कहा जा रहा है घटना के बाद सभी दूसरे जिले में शरण ले रखे हैं। पुलिस एक बार फिर वैज्ञानिक तरीके से खोजबीन में जुटी है।

खबरें और भी हैं...