मुजफ्फरपुर में जलजमाव और कीचड़ के बीच वोटिंग:सकरा प्रखंड में बाढ़ और बारिश के पानी में डूबे स्कूल को मतदान केंद्र बना दिया गया, बूथ तक जाने में परेशानी

मुजफ्फरपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सकरा प्रखंड के मझौलिया पंचायत में बाढ़ और बारिश के पानी में डूबा स्कूल। - Dainik Bhaskar
सकरा प्रखंड के मझौलिया पंचायत में बाढ़ और बारिश के पानी में डूबा स्कूल।

मुजफ्फरपुर में शुक्रवार को तीसरे चरण का मतदान हो रहा है। जलजमाव और कीचड़ के बीच मुजफ्फरपुर के सकरा और मुरौल प्रखंड में कई बूथों पर मतदान हो रहा है। सकरा प्रखंड के बेरुआडीह गांव और मझौलिया पंचायत में बाढ़ और बारिश के पानी में डूबे स्कूल को मतदान केंद्र बना दिया गया है। स्कूल के भीतर कमर से ऊपर तक पानी लगा है। इसके बाद स्कूल के समीप सड़क पर ही टेंट लगाकर मतदान शुरू कर दिया गया है। मझौलिया पंचायत में भारी जलजमाव और कीचड़ के कारण बुजुर्ग और महिलाओं को बूथ तक जाने में काफी दिक्कतें आ रही हैं। उनके लिए प्रशासन की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं की गई है।

मझौलिया पंचायत के बूथ संख्या 319-320 बूथ के सामने सड़क पर जलजमाव है। चारों तरफ कचरा फैला हुआ है। तेज दुर्गंध आ रही है, जिससे सांस लेना मुश्किल हो रहा है। बावजूद इसके जलजमाव के बीच मतदान जारी है। नौजवान वोटर तो किसी तरह पहुंच जाते हैं। लेकिन, महिलाओं और बुजुर्गों को खासी परेशानी हो रही है। दूसरे वोटर इनका हाथ पकड़कर या सहारा देकर बूथ तक पहुंचते हैं। इनके लिए प्रशासन की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं की गई है।

बूथ के बाहर जलजमाव।
बूथ के बाहर जलजमाव।
स्कूल के समीप सड़क पर ही टेंट लगाकर मतदान शुरू कर दिया गया है।
स्कूल के समीप सड़क पर ही टेंट लगाकर मतदान शुरू कर दिया गया है।

बुजुर्ग महिला वोटर अलीमा खातून, सबीना खातून और मोहम्मद अब्बास ने बताया कि गंदा पानी मे वोट डालने आए हैं। काफी परेशानी हो रही है। कोई देखने वाला नहीं है। बारिश के कारण जलजमाव हुआ था। स्थानीय मुखिया ने कोई पहल नहीं किया, जिससे पानी निकल सके। ग्रामीणों ने खुद मोटर लगाकर कुछ हद तक पानी निकाला। बावजूद इसके जलजमाव की समस्या बनी हुई है। अलीमा खातून ने तो यहां तक कह दिया की इन बार मुखिया को बदल देंगी। इधर, बूथ पर तैनात स्टैटिक मजिस्ट्रेट राकेश कुमार ने कहा कि मतदान कर्मियों को भी काफी परेशानी हो रही है। बूथ पर बिजली, पानी की भी व्यवस्था नहीं है। पता नहीं ऐसे जगह पर क्यों बूथ बनाया गया।

बता दें कि सकरा और मुरौल प्रखंड में वोटिंग हो रहा है। जिसमें 3760 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होना है। इसमें 1866 पुरुष और 1899 महिला उम्मीदवार हैं। कुल छह पदों के लिए मतदान हो रहा है। इसमें मुखिया, जिला पार्षद, पंचायत समिति सदस्य, वार्ड सदस्य, पंच और सरपंच हैं। वहीं 142 उम्मीदवार निर्विरोध जीत चुके हैं।

खबरें और भी हैं...