पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मरीजों के परिजन आक्रोशित:एसकेएमसीएच में ब्लैक फंगस की दवा खत्म, लोकल परचेजिंग का निर्देश

मुजफ्फरपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भर्ती नहीं लिए जाने पर आक्रोशित हैं मरीजों के परिजन

ब्लैक फंगस के इलाज में प्रयाेग हाेने वाली दवा एसकेएमसीएच से पटना मंगा लेने के बाद यहां मरीजों के इलाज पर संकट गहरा गया है। रविवार को एसकेएमसीएच के इमरजेंसी वार्ड पहुंचे दो मरीजों काे बताया गया कि दवा नहीं है। इसलिए पटना या दरभंगा जा कर इलाज कराएं। एक महिला मरीज गिड़गिड़ाती रही, लेकिन उसे भर्ती नहीं किया गया। मरीज के परिजनों ने पहले विरोध जताया। फिर राेगी को लेकर चले गए।

इधर, एसकेएमसीएच अधीक्षक डाॅ. बीएस झा ने बताया कि ब्लैक फंगस के एक मरीज के लिए कम से कम 100 वायल चाहिए। न्यूरो सर्जरी विभागाध्यक्ष डाॅ. दीपक कर्ण ने बताया कि ब्लैक फंगस के कारण ऑपरेशन कराए सभी तीन मरीजों में सुधार है। मालूम हो कि मुख्यालय ने एम्फोटेरिसीन बी नामक ब्लैक फंगस की दवा के दो सौ वायल यहां भेजा था।

इनमें 70 वायल पटना मुख्यालय ने वापस मंगा ली। उधर, प्राचार्य डॉ. विकास कुमार ने बताया कि विभाग ने लोकल स्तर पर पर्चेजिंग का निर्देश दिया है। लेकिन, ब्लैक फंगस में जो दवा दी जाती है वह शहर में नहीं है। कंपनी को ऑर्डर करना होता है।

खबरें और भी हैं...