90 लाख की चाइनीज और कोरियन सिगरेट जब्त:गुवाहाटी से कानपुर जा रही थी खेप, मुजफ्फरपुर में DRI ने 2 को पकड़ा

मुजफ्फरपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बरामद की गई सिगरेट की खेप। - Dainik Bhaskar
बरामद की गई सिगरेट की खेप।

डायरेक्ट्रेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (DRI) की टीम ने पूर्वी चंपारण के चकिया टोल प्लाजा से चाइनीज और कोरियन सिगरेट जब्त की हैं। नागालैंड में रजिस्टर्ड कंटेनर में सिगरेट की 3,71,400 स्टिकस थीं। इनकी कीमत करीब 90 लाख रुपए है। कंटेनर के ड्राइवर और खलासी को भी गिरफ्तार किया गया है। दोनों राजस्थान के रहने वाले हैं।

बताया गया कि कंटेनर में कुरियर का सामान लोड था। इसकी आड़ में विदेशी सिगरेट की स्मगलिंग की जा रही थी। सिगरेट के लिए कंटेनर के केबिन में एक तहखाना बना रखा था।

DRI को गुप्त सूचना मिली थी कि गुवाहाटी से सिगरेट को कानपुर ले जाया जा रहा है। DRI अधिकारियों ने टीम गठित कर चकिया टोल प्लाजा के समीप घेराबंदी की। इसी दौरान कंटेनर को रोका गया।कंटेनर चालक और खलासी से सख्ती से पूछताछ की गई तो उन्होंने बताया कि इस पर कुरियर का सामान लोड है। इसे कानपुर लेकर जाना है। इसके कागजात भी टीम को दिखाए। टीम ने कंटेनर की बारीकी से तलाशी ली तो केबिन में सिगरेट मिलीं।

म्यांमार बॉर्डर से आया भारत में

DRI अधिकारियों ने बताया कि सिगरेट चाइनीज और कोरियन निर्मित हैं। इनको म्यांमार बॉर्डर से तस्करी कर भारत में लाया गया था। इसके बाद गुवाहाटी में कंटेनर के तहखाना में छिपाया गया। फिर उस पर कुरियर का सामान लोड कर कानपुर सप्लाई करने को भेजा जा रहा था। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि गुवाहाटी के एक व्यापारी ने सिगरेट की खेप पहुंचाने पर 20-20 हजार रुपए देने का कहा था। पांच-पांच हजार रुपए एडवांस भी दिए गए थे। शेष रुपए काम पूरा होने के बाद देने की बात कही थी।

DRI अधिकारी ने बताया कि दोनों को जेल भेजने की तैयारी है। इनके पास से मोबाइल समेत अन्य सामान जब्त किए गए हैं। इससे अहम सुराग मिला है। इसी आधार पर टीम आगे की कार्रवाई कर रही है।