पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • City's Aspirations, Shubham And Pallavi Achieve Success, All Have Same Mission, Want To Do Social Service By Becoming A Doctor

नीट रिजल्ट:शहर की आकांक्षा, शुभम व पल्लवी ने पाई सफलता, सभी का एक ही मिशन, डाक्टर बनकर करना चाहते हैं समाजसेवा

मुजफ्फरपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कांक्षा ने प्रभात तारा स्कूल से 10वीं, 12वीं की परीक्षा पास की है।
  • किसी को पहले तो किसी को दूसरे प्रयास में मिली कामयाबी

शहर के माड़ीपुर की आकांक्षा को नीट की परीक्षा में 1547वीं रैंक हासिल हुई। उन्हें दूसरे प्रयास में यह सफलता मिली है। उन्हाेंने कोटा के एक कोचिंग संस्थान से जुड़कर तैयारी की। पिता दिनेश सिंह की माड़ीपुर में ऑटोमोबाइल की दुकान है। वहीं, मां रेणू सिंह गृहिणी हैं। आकांक्षा ने प्रभात तारा स्कूल से 10वीं, 12वीं की परीक्षा पास की है। वह चार भाई-बहन में सबसे छोटी हैं। दो भाइयाें ने आईआईटी से पढ़ाई की है। उन्हें 720 में से 666 अंक मिले। वह डॉक्टर बन समाजसेवा करना चाहती हैं।

शुभम स्वराज को 4955वीं रैंक, कोटा से की थी तैयारी
मुजफ्फरपुर में रहकर पढ़ाई करने वाले शुभम स्वराज को नीट की परीक्षा में 4955वीं रैंक मिली है। उन्हें 720 में 645 अंक मिले। 8वीं तक भगवानपुर स्थित यादव नगर इलाके में रहकर पढ़ाई की। फिर उनका चयन सैनिक स्कूल नालंदा में हो गया। शुभम ने बताया, वह कोटा के कोचिंग संस्थान से जुड़कर तैयारी कर रहे थे। फिजिक्स और केमिस्ट्री की तैयारी कोचिंग की ओर से दिए गए नोट्स से की थी।

बायोलॉजी की तैयारी के लिए एनसीईआरटी को आधार बनाया। परीक्षा में भी बायोलॉजी के सवाल एनसीईआरटी के कॉन्सेप्ट पर ही पूछे गए थे। इससे काफी मदद मिली। शुभम ने बताया, नीट की तैयारी के लिए रिवीजन करना जरूरी है। तीसरे प्रयास में यह सफलता मिली। वे मूल रूप से छपरा के रहने वाले हैं। शुभम ने कहा, वह डॉक्टर बनकर समाज सेवा करना चाहते हैं।

पल्लवी को 6999वीं रैंक, कहा- जितने सोचे, उतने आए
भगवानपुर श्रीकृष्ण बिहार कॉलोनी की पल्लवी ने 6999वीं रैंक हासिल की। पिता कमलेश कुमार की दवा दुकान है। मां सरकारी स्कूल में शिक्षिका हैं। पल्लवी ने बताया, दूसरे प्रयास में सफलता मिली। 720 अंकों में से उसे 635 अंक मिले हैं। वह डॉक्टर बनकर समाज सेवा करना चाहती हैं। आंसर की से मिलान करने के बाद जितना उसने सोचा था, उतने ही अंक मिले। तैयारी के दौरान बायोलॉजी की पूरी पढ़ाई एनसीईआरटी को आधार बनाकर ही किया।

खासकर अंतिम महीने में सभी विषयों पर रिवीजन के लिए बराबर बराबर समय निर्धारित किया। वहीं, फिजिक्स और केमिस्ट्री में तैयारी के लिए नोट्स का भी सहारा लिया। केमिस्ट्री की तैयारी के लिए भी एनसीईआरटी को ही आधार बनाया। खासकर इन ऑर्गेनिक केमिस्ट्री वाले हिस्से को। फिजिक्स में कॉन्सेप्ट महत्वपूर्ण होता है। इसके लिए न्यूमेरिकल्स पर भी बराबर ध्यान देने की जरूरत है, तभी बेहतर रिजल्ट आएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें