पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीम के सदस्यों ने कहा:बहाली में राशि वसूली मामले की जांच कर रही टीम काे सिविल सर्जन ने भेजवाए कागजात

मुजफ्फरपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सभी कागजात की जांच के बाद डीएम को सौंपी जाएगी रिपोर्ट

स्वास्थ्य विभाग द्वारा सदर अस्पताल समेत पीएचसी में 3 महीने के लिए हुए करीब 657 पदों पर किए गए नियोजन में राशि वसूली की शिकायत की जांच कर रही टीम काे सिविल सर्जन ने गुरुवार काे सभी कागजात सौंप दिए। टीम के सदस्यों ने कागजात की समीक्षा के बाद डीएम काे रिपोर्ट सौंपने की बात कही। टीम का नेतृत्व कर रहे डीडीसी सुनील झा ने कहा कि सिविल सर्जन ने सदर अस्पताल के अधीक्षक के माध्यम से बहाली के सभी कागजात साैंप दिए हैं। इसकी गहन जांच की जा रही है। अधीक्षक के अनुसार यह बहाली नहीं, बल्कि दैनिक मजदूरी पर 3 महीने के लिए नियोजन है।

बहाली या नियुक्ति कहकर वैसे लोग हंगामा कर रहे हैं जिनका नियोजन नहीं हुआ। बता दें कि हाल में सदर अस्पताल समेत पीएचसी के लिए एएनएम, जीएनएम, डॉक्टर, पारा मेडिकल स्टाफ समेत 657 का नियोजन किया गया है। इसमें गड़बड़ी और रिश्वतखोरी की शिकायत पर डीएम प्रणव कुमार ने डीडीसी समेत एसडीओ पूर्वी कुंदन कुमार व एडीएम राजेश कुमार की कमेटी गठित की थी।

धर्मेंद्र के काम करने पर लगी रोक वायरल ऑडियो की हाे रही जांच

बहाली के लिए वसूली का ऑडियो वायरल होने के मामले में विभाग ने आरोपित डाटा एंट्री आपरेटर धर्मेंद्र को हाजिरी बनाने से राेक दिया है। सीएस द्वारा गठित टीम के नेतृत्वकर्ता अस्पताल अधीक्षक डाॅ. शिवशंकर ने बताया कि जांच के बाद रिपोर्ट सीएस को दी जाएगी। डाटा आपरेटर पर आरोप लगाने वाले आवेदक का भी पक्ष लिया जाएगा। अभी जांच होने तक आपरेटर की हाजिरी रोक लगा दी गई है। वह अपने लैपटॉप से काम करता था जिसे लेकर वह प्रबंधक कार्यालय से चला गया है।

खबरें और भी हैं...