बिहार मानवाधिकार आयोग ने NBPDCL को भेजी नोटिस:आग में झुलसने से वृद्धा की मौत के मामले में लिया संज्ञान, 7 सितंबर तक मांगा जवाब

मुजफ्फरपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अधिवक्ता ने दायर की थी अर्जी। - Dainik Bhaskar
अधिवक्ता ने दायर की थी अर्जी।

मुजफ्फरपुर जिले के मीनापुर थाना क्षेत्र के खेमाई पट्टी गांव निवासी प्रमोद कुमार सिंह की 72 वर्षीय मां बनारसी देवी की मृत्यु विगत 20 जनवरी को शॉर्ट सर्किट के कारण घर में लगी आग से जलने के कारण हो गयी थी। इस संबंध में पीड़ित के द्वारा मानवाधिकार अधिवक्ता SK JHA के माध्यम से आयोग में याचिका दायर की गयी थी। अब बिहार मानवाधिकार आयोग ने मामले में संज्ञान लेते हुए NBPDCLके MD को नोटिस जारी किया है और सात सितंबर तक जवाब मांगा है।

पीड़ित प्रमोद कुमार सिंह ने बताया कि लंबे समय से उनके मोहल्ले की बिजली में भयानक शॉर्ट सर्किट हो रहा था, जिसकी सूचना उनके द्वारा स्थानीय लाइनमैन और कनीय विद्युत अभियंता मीनापुर को लगातार दी गई, लेकिन उनका रवैया हमेशा इस संबंध में लापरवाह रहा। अंततः विगत 20 जनवरी को आधी रात प्रमोद कुमार सिंह के घर में शॉर्ट सर्किट से अचानक आग लग गई, जिसमें उनकी 72 वर्षीय माँ बनारसी देवी जिंदा जल गई।

साथ ही इस हादसे में उनकी छह बकरियां समेत करीब 3 लाख रुपये के गहना-जेवर, 1 लाख रुपये नगद और पूरा घर जल कर नष्ट हो गया। पीड़ित के अनुसार, इतने बड़े हादसे के लिए स्थानीय लाइनमैन व कनीय विद्युत अभियंता मीनापुर पूरी तरह से जिम्मेदार हैं। आयोग में मामले की पैरवी कर रहे मानवाधिकार अधिवक्ता एस. के. झा ने कहा कि यह मानवाधिकार उल्लंघन से जुड़ा अतिगंभीर श्रेणी का मामला है। अगर विद्युत विभाग सजग रहता तो इतना बड़ा हादसा न होता और पीड़ित की माँ आज जिंदा होती।