पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

SKMCH में भर्ती तीन बच्चों में AES की पुष्टि:अस्पताल में AES पीड़ित बच्चों की संख्या अब तक 50 हुई, 10 बच्चों की हो चुकी है मौत

मुजफ्फरपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

SKMCH मुजफ्फरपुर के पीकू वार्ड में भर्ती तीन बच्चों में AES की पुष्टि हुई है। तीनों बच्चे रजनीश कुमार (7 वर्ष), शबनम कुमारी (8 वर्ष) और साहिल कुमार (7 वर्ष) हैं। इनमें रजनीश वैशाली के गोरौल, शबनम वैशाली के लालगंज और साहिल मुशहरी का रहने वाला है। ये तीनों बच्चे दो दिन पूर्व भर्ती हुए थे। प्रारम्भिक लक्षण देखकर चमकी बुखार का पता लगा था। इसी आधार पर डॉक्टरों ने इलाज शुरू किया था। जांच रिपोर्ट में AES की पुष्टि हुई। पीकू वार्ड में सभी का इलाज चल रहा है।

बता दें कि इन तीन बच्चों में AES की पुष्टि होने के बाद मरीज़ों की कुल संख्या 50 हो गई है। वहीं 10 बच्चों ने अब तक इस बीमारी से दम तोड़ दिया है। पीकू वार्ड में अभी सात बच्चों का इलाज चल रहा है। इधर, लगातार एक सप्ताह से SKMCH में AES और चमकी बुखार के लक्षण वाले मरीज भर्ती हो रहे हैं। रविवार को AES से एक पांच साल की बच्ची की मौत हो गई थी।

डॉ. गोपाल शंकर साहनी ने कहा कि मौसम और बाढ़ के प्रकोप के कारण बच्चे बीमार पड़ रहे हैं। परिजन को इसे समझना होगा। कुछ दिनों तक बच्चों को संभालकर रखना होगा। बाढ़ के पानी में जाकर बच्चे खेलते हैं फिर शरीर में धूप लगती है। इसे वे सहन नहीं कर पाते हैं और बीमार पड़ रहे हैं।

चमकी बुखार के तेज से बढ़ रहे मामले
जिले में चमकी बुखार से पीड़ित होने वाले बच्चों के आंकड़े भी बढ़ रहे हैं। इसकी मुख्य वजह बच्चों का गन्दे पानी में जाना और तेज धूप में घूमना माना जा रहा है। इसके अलावा सही खानपान भी नहीं होने से बच्चे बीमार पड़ रहे हैं।

खबरें और भी हैं...