पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आफत लाई बाढ़:बागमती का कॉपर बांध टूटा, औराई दक्षिणी क्षेत्र में फैला पानी

मुजफ्फरपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
औराई के घनश्यामपुर में मक्के की फसल मंें जमा हुआ मनुषमारा का पानी। - Dainik Bhaskar
औराई के घनश्यामपुर में मक्के की फसल मंें जमा हुआ मनुषमारा का पानी।
  • बूढ़ी गंडक के जलस्तर में एक मीटर की हुई वृद्धि, झोपड़ियों में घुसा पानी
  • बागमती के जलस्तर में वृद्धि से कटरा, औराई, गायघाट में दहशत
  • गंडक और बूढ़ी गंडक के जलस्तर में तेजी से हो रही वृद्धि से सहमे लोग

बागमती का जलस्तर लाल निशान से करीब 2 मीटर ऊपर पहुंचने के बाद मंगलवार की दोपहर थम गया है, लेकिन गंडक के साथ बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में तेजी से वृद्धि जारी है। गंडक नदी का जलस्तर लाल निशान से केवल 44 सेंटीमीटर नीचे है ताे बूढ़ी गंडक के जलस्तर में 24 घंटे में 1 मीटर की वृद्धि हुई है। हालांकि, दोनों नदियां अभी लाल निशान से नीचे बह रही है। वाल्मीकिनगर में हुई अत्यधिक बारिश के कारण मंगलवार को बराज से रिकॉर्ड 314000 क्यूसेक पानी छोड़ा गया, इसके कारण रेवाघाट में गंडक नदी का जलस्तर सोमवार के मुकाबले तेजी से वृद्धि के साथ 53.97 मीटर पर पहुंच गया।

हालांकि रेवा घाट में खतरे का निशान 54. 41 मीटर पर है। बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में मंगलवार को 1 मीटर की वृद्धि रिकॉर्ड की गई। बूढ़ी गंडक का जलस्तर शहर के सिकंदरपुर में 50.74 मीटर बढ़ते क्रम में रिकॉर्ड किया गया, हालांकि सिकंदरपुर में खतरे का निशान अभी डेढ़ मीटर ऊपर है। बूढ़ी गंडक के जलस्तर में तेजी से वृद्धि होने से सिकंदरपुर के झील नगर तथा आसपास के क्षेत्रों में बनाई गई झोपड़ियों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है।

बागमती का जलस्तर खतरे के निशान से 2 मीटर ऊपर होने के कारण औराई, कटरा और गायघाट प्रखंड में बाढ़ की स्थिति भयावह बनी हुई है। कटरा और गायघाट प्रखंड के नए क्षेत्रों में तेजी से पानी फैल रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों की सड़कों, स्कूलों तथा लोगों के घरों में पानी प्रवेश कर जाने से तीन दर्जन से अधिक गांव में लोग परेशान हो गए हैं। कटरा प्रखंड की 14 पंचायतों का आवागमन पूरी तरह ठप है। कटरा फीडर में पानी प्रवेश कर जाने से पूरे क्षेत्र में बिजली की समस्या से लोग दूसरे दिन भी परेशान रहे।

साहेबगंज स्थित प्रावि पहाड़पुर आह्लाद में घुसा बाढ़ का पानी।
साहेबगंज स्थित प्रावि पहाड़पुर आह्लाद में घुसा बाढ़ का पानी।

7 सम्पर्क पथों पर पानी चढ़ने से आवागमन ठप

 गंडक नदी का जलस्तर बढ़ने के साथ 6 पंचायतों में बाढ़ का पानी फैल गया है। माधोपुर हजारी, बंगरा निजामत पंचायत आदि में तिरहुत तटबंध के अंदर पानी फैल गया। बाढ़ का पानी आने से बंगरा निजामत पंचायत के वार्ड 1, 2, 3, 4, 5, 6, 8 व 9 के करीब 2000 घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है। 7 सम्पर्क पथों पर पानी चढ़ जाने से आवागमन ठप है। विधायक रामविचार राय ने वरीय उप समाहर्ता विकास कुमार, डीसीएलआर पश्चिमी सुरेंद्र अलबेला व सीओ के साथ बाढ़ प्रभावित पंचायतों का भ्रमण किया।

तटबंध पर एक भी सामुदायिक किचन शेड की व्यवस्था नहीं

बागमती के जलस्तर में हल्की कमी के बावजूद बागमती तटबंध से विस्थापित 12 गांवाें की हजारों की आबादी को धीरे-धीरे तरह-तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लोग तटबंध पर अपने सामान के साथ पहुंच रहे हैं। चावल, गेहूं ,गैस, सिलेंडर तो किसी तरह बांध पर नाव से ला रहे हैं, लेकिन भारी सामान ट्रंक, पलंग, मवेशी छोटी नाव होने की वजह से सक्षम नहीं हो पा रहे हैं। तटबंध पर एक भी सामुदायिक किचन शेड की व्यवस्था नहीं की गई है।

छोटे-छोटे बच्चे आने वाले हर राही-बटोही व गाड़ियों को आशा भरी निगाहों से देखते हैं कि कोई बिस्कुट का पैकेट भी दे दे, लेकिन ऐसी कोई व्यवस्था सरकारी या किसी निजी संस्थान द्वारा भी नहीं की गई है। अब तक किसी भी विस्थापित को एक पॉलिथीन सीट की व्यवस्था नहीं की गई है। बभनगामा के असलम ने बताया की सर्दी-बुखार होने पर भी एक साधारण गोली हम लोगों को नसीब नहीं हो रही है। औराई जाने के लिए दिनभर समय लग जाएगा। विस्थापित दिलीप, नाजीर समेत कई ने बताया कि खाना बनाने में काफी परेशानी हो रही है।

सीओ ज्ञानानंद ने बताया कि बागमती से विस्थापित जरूरतमंदों की सूची तैयार की गई है।दूसरी ओर लखनदेई के जलस्तर में कमी आई है जबकि मनुषमारा का पानी स्थिर है। मनुषमारा के काले पानी से सैकड़ों एकड़ में लगी फसल नष्ट हो गई है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें