पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अब फर्ज भुला रहा संक्रमण:मुजफ्फरपुर में कोरोना पॉजिटिव पिता को सड़क पर छोड़ गया बेटा, हॉस्पिटल की कागजी प्रक्रिया पूरी होने तक दम तोड़ा

मुजफ्फरपुर2 महीने पहले

देश और दुनिया में लाखों लोगों को मार चुका कोरोना वायरस अब रिश्तों के ताने-बाने को भी खत्म करने लगा है। इसका एक नमूना बिहार के मुजफ्फपुर की यह खबर है। यहां एक बेटा अपने बीमार पिता को सड़क पर छोड़ दिया। पिता कोरोना से संक्रमित थे। लोगों ने हॉस्पिटल ले जाने के लिए कहा तो बेटा उन्हें घर से लेकर तो आ गया, लेकिन रास्ते में छोड़कर चला गया। कुछ देर बाद पिता की मौत हो गई।

मुजफ्फरपुर टाउन के दमुचक में रहने वाले अर्जुन ओझा दो दिन पहले कोरोना पॉजिटिव हो गए थे। मोहल्ले वालों ने इलाज के लिए दबाव बनाया तो उनके पेशे से सरकारी टीचर बेटे ने ऐंबुलेंस मंगाकर उन्हें सदर अस्पताल भेज दिया। साथ में अर्जुन की पत्नी भी थीं। पीछे से बेटा और बहू अस्पताल के लिए निकले। रास्ते में दोनों बहाना बनाकर माता-पिता को छोड़कर भाग निकले। ऐंबुलेंस ड्राइवर ने यह देखा तो वह भी अर्जुन को सड़क पर उतारकर चलता बना।

वीडियो वायरल हुआ तो जिला प्रशासन को लगी खबर
सड़क पर तड़प रहे अर्जुन ओझा का किसी ने वीडियो बना लिया। कुछ ही देर में यह वीडियो वायरल हो गया। इसके बाद किसी ने मुजफ्फरपुर DM को सूचना दी। इसके बाद DM के आदेश पर अर्जुन ओझा को सड़क से उठाकर सदर अस्पताल भेजा गया।

अर्जुन की हालत खराब होती देख सदर अस्पताल के स्टाफ ने उन्हें श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) रेफर कर दिया। इसकी कागजी प्रक्रिया पूरी होने में दोपहर से शाम हो गई। अर्जुन ने SKMCH पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया।

दो दिन पहले रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी
अर्जुन ओझा के पास मौजूद उनकी पत्नी ने बताया कि उनके दो बेटे हैं। एक सरकारी टीचर है। हावड़ा में भी उनका मकान है। अर्जुन ओझा चल-फिर नहीं सकते थे। दो दिन पहले उनकी कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसलिए इलाज के लिए घर से आए थे।

खबरें और भी हैं...