जमीन विवाद:मुजफ्फरपुर क्लब की जमीन जैतपुर स्टेट के हवाले करने का कोर्ट ने दिया आदेश

मुजफ्फरपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • क्लब के सचिव बाेले- हाईकोर्ट में ले जाएंगे मामला, जयपुर स्टेट की ओर से कहा गया- अब खाली कराने में जुटेंगे

लंबे समय से चल रही सुनवाई के बाद शनिवार को कोर्ट ने मुजफ्फरपुर क्लब की जमीन को जैतपुर स्टेट के हवाले करने का आदेश दिया। क्लब की साढ़े 10 एकड़ जमीन को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री उषा सिंह के परिवार व क्लब के पदाधिकारियों के बीच 1978 से मुकदमा चल रहा है।

उधर, शनिवार को कोर्ट का फैसला आने के बाद मुजफ्फरपुर क्लब के सचिव आरके साहू ने कहा कि अभी कोर्ट की ऑर्डरशीट नहीं मिली है। कोर्ट की ऑर्डरशीट का अध्ययन करने व कानूनी राय लेने के बाद हम हाईकोर्ट जाएंगे। अभी लंबी लड़ाई चलेगी।

जयपुर स्टेट की ओर से मामले की देखरेख कर रहे जगदीश सिंह ने कहा कि 2015 में ही जयपुर स्टेट के पक्ष में फैसला आ गया था। अब अपील भी खारिज होने के बाद हमलोग जल्द ही मुजफ्फरपुर क्लब को खाली कराने के लिए कानूनी प्रक्रिया शुरू कराएंगे।

अंग्रेजी हुकूमत ने 1885 में कराया था इस जमीन का लीज

मुजफ्फरपुर क्लब के सचिव आरके साहू का कहना है इसे अंग्रेजी हुकूमत ने 1885 में लीज कराया था। जैतपुर स्टेट व क्लब की कमेटी के बीच 1978 से अदालत में मामला चल रहा है। जैतपुर स्टेट क्लब की ओर से जमीन पर मालिकाना हक जताते हुए कोर्ट में 1978 में टाइटल सूट दाखिल की गई थी।

सुनवाई के पश्चात वर्ष 2015 में सब जज कोर्ट ने क्लब की जमीन को जैतपुर स्टेट के हवाले करने का फैसला सुनाया। इस फैसले के खिलाफ मुजफ्फरपुर क्लब कमेटी की ओर से जिला व सत्र न्यायालय में अपील की गई। उस अपील को एडीजे की अदालत में ट्रांसफर किया गया। सुनवाई के बाद शनिवार को एडीजे की अदालत ने मुजफ्फरपुर क्लब की अपील को खारिज कर दिया।

खबरें और भी हैं...