फोर्स की तैनाती:एसकेएमसीएच काेराेना वार्ड में नहीं पहुंचे डॉक्टर बाेले आईएमए अध्यक्ष- पहले दी जाए पूरी सुरक्षा

मुजफ्फरपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • देर रात आधा दर्जन मजिस्ट्रेट व फोर्स की तैनाती
  • शांति व्यवस्था बनाए रखने को 24 घंटे रहेगी ड्यूटी

एसकेएमसीएच में बुधवार को भी चिकित्सकाें का राउंड नहीं हुआ। रात 8:30 बजे आईएमए के जिलाध्यक्ष डॉ. संजय कुमार और कैजुअल्टी रजिस्टार डॉ. विजय भारद्वाज पीपीई किट पहनकर वहां पहुंचे। दोनों ने वार्ड में डॉक्टरों के लिए सुरक्षा की पड़ताल की। वहां पर मजिस्ट्रेट द्वारा तैनात 2 सेक्शन फोर्स भी नहीं था। यहां तक कि बवाल के बाद बढ़ाए गए गार्ड भी गायब थे। आईएमए जिलाध्यक्ष ने नाराजगी जताते हुए पूरे मामले की फोटोग्राफी अधीक्षक व प्राचार्य को भेजी है। कहा- मौजूदा हालात में डॉक्टर सुरक्षित होकर ड्यूटी नहीं कर सकते।

मंगलवार की रात मरीज की माैत पर बदसलूकी के बाद एसकेएमसीएच के डाॅक्टराें ने काम राेक दिया था। इसका असर बुधवार काे भी दिखा। मंगलवार की रात 9 बजे के बाद से मृत 8 मरीजों को सर्टिफाइड करने पहुंचे डॉक्टर ने आग्रह पर कुछ गंभीर मरीजों को ही देखा। सुरक्षा व्यवस्था की कमी बताते हुए अन्य मरीजाें काे देखने नहीं पहुंचे। उधर, डीएम प्रणव कुमार के आदेश पर बुधवार की रात आधा दर्जन दंडाधिकारी व पुलिस बल की तैनाती की गई। ये दंडाधिकारी व पुलिस अधिकारी तीन पालियों में 24 घंटे काेराेना मरीजों के इलाज के दाैरान सुरक्षा एवं शांति व्यवस्था के लिए नियंत्रण कक्ष में रहेंगे।

भर्ती मरीजों के परिजन ने कहा- रातभर झेलनी पड़ी परेशानी

वार्ड 3 में भर्ती एक मरीज के परिजन ने बताया है कि सुबह 10 बजे एक डॉक्टर आए थे। मरीज को सीने मे अधिक दर्द था। नर्स को सूई देने के लिए बोलकर चले गए। उसके बाद से कोई डॉक्टर वार्ड में नहीं आए। वार्ड 9 में भर्ती एक मरीज के परिजन ने बताया कि रातभर पाइपलाइन से मिलनेवाली ऑक्सीजन की स्थिति बहुत बुरी थी। 4-5 बार छोटे सिलेंडर में भरकर मरीज को देनी पड़ी। ऑक्सीजन लेवल भी 84 की जगह 40 हो गई थी। डॉक्टर के नहीं रहने के कारण मंगलवार रातभर मरीजाें को परेशानी झेलनी पड़ी है। आज भी कोई डॉक्टर वार्ड नहीं पहुंचे। उधर, अस्पताल अधीक्षक डॉ. बाबूसाहेब झा का कहना है कि सभी मरीजाें का इलाज डॉक्टर की देखरेख में चल रहा है। स्थिति सामान्य हाे चुकी है। मंगलवार की रात 8:15 में एक मरीज की मौत के बाद परिजनों ने डॉक्टर से बदसलूकी और मारपीट का प्रयास किया था। इसे लेकर कुछ परेशानी हाे रही है। पूरी व्यवस्था शीघ्र ही पटरी पर आ जाएगी।

खबरें और भी हैं...