पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तबाही:ितरहुत तटबंध व बाया नदी के बीच की आठ पंचायतें जलमग्न, 1000 परिवार प्रभावित, आवागमन बाधित

मुजफ्फरपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पूर्वी चंपारण के सरोत्तर चौर के पानी से बाया नदी हो गई है विकराल, लगातर जलस्तर में हो रही वृद्धि

पूर्वी चंपारण के सरोत्तर चौर से लगातार आ रहे बाढ़ के पानी से बाया नदी विकराल हाे गई है। इसका जलस्तर निरंतर बढ़ रहा है। इसके कारण पूर्व से प्रभावित वैधनाथपुर, हलीमपुर, विशुनपुर पट्टी, हुस्सेपुर, रूप छपरा, हुस्सेपुर रत्ती एवं जगदीशपुर पंचायत का अधिकांश भाग जलमग्न है। हलीमपुर पंचायत के देवधरा गांव स्थित छड़की बांध पानी के दबाव में टूट जाने से तिरहुत तटबंध के व बाया नदी के बीच अवस्थित ईशाछपरा, इमादपुर बंगरा निजामत, मनाइन, रूपछपरा, नवादा, सहदुल्लेपुर, खेमकरना, शाहपुर पट्टी में पानी फैल गया है।

तत्काल 1000 परिवार प्रभावित हाे गए हैं। ग्रामीण सड़कें डूब गईं हैं। उधर, मकड़ी टोला में पानी का दबाव बढ़ने से नगर पंचायत के वार्ड 13 व वार्ड 11 में पानी तेजी से घरों में घुस रहा है। मकड़ी टोला में करीब 100 फीट की दूरी में एसएच 74 पर पानी करीब एक फीट ओवरफ्लो होकर बह रहा है। देवरिया-साहेबगंज मार्ग पर लगातार वाहनों के हो रहे परिचालन से व पानी के दबाब से एसएच 74 खतरा बढ़ गया है। बाया नदी के बढ़ते जलस्तर पर साहेबगंज बाजार में भी असर दिखने लगा है। ब्रजनंदन चौक के समीप स्थित मीना बाजार में भी नदी का पानी प्रवेश कर गया है।

कांटी के गोसाई टोला बांध के नीचे से पानी का रिसाव, दहशत में लोग
कांटी | नगर पंचायत क्षेत्र के वार्ड 11 के गोसाई टोला स्कूल से आगे बांध पर बूढ़ी गंडक नदी में जलस्तर में बढ़ोतरी होने से बांध के नीचे से पानी की रिसाव हो रहा है। जानकारी हाेने पर लोगों की भीड़ जुट गई। उनका कहना था कि अगर जल्द ठीक नहीं किया गया तो बांध टूटने का खतरा बढ़ जाएगा, जिसके बाद गांव में तबाही मच सकती है। वहीं इस बाबत ग्रामीणों ने अधिकारी को सूचित किया है।

माेतीपुर में बूढ़ी गंडक बांध से रिसाव से अफरातफरी

बूढ़ी गंडक नदी का बांध अंजनाकोट में टूटने से बच गया। बांध में रिसाव की सूचना पर तत्काल मरम्मत कराई गई। हालांकि जल संसाधन विभाग के कनीय अभियंताआें को लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ा। अंजनाकोट में एक पुराना स्लुइस गेट था। जिसे बाद में बंद कर दिया गया। उसी जगह पर विगत 24 घंटाें से रिसाव हो रहा था। लोगों ने इनकी सूचना जल संसाधन विभाग को दी थी। लोगों का आरोप था कि विभाग ने शिकायतों पर अमल नहीं किया। फलस्वरूप रिसाव बढ़ता गया।

मंगलवार को तकरीबन दो ह्यूम पाइप से पानी का रिसाव देख लोगों में हड़कंप मच गया। इसकी सूचना सीअाे कुमार भास्कर को दी गई। अंचलाधिकारी ने तकरीबन दो किलो मीटर तक बांध का मुआयना किया। जिसमें रिसाव के जगह से थोड़ी दूर पर एक और रिसाव का केंद्र मिला। दोनों ही रिसाव को रोकने के लिए काम शुरू कराया। सीअाे ने बताया कि रिसाव की जगह पर बांध को मजबूत करने का काम किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज समय कुछ मिला-जुला प्रभाव ला रहा है। पिछले कुछ समय से नजदीकी संबंधों के बीच चल रहे गिले-शिकवे दूर होंगे। आपकी मेहनत और प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। किसी धार्मिक स्थल पर जाने से आपको...

    और पढ़ें