बॉयलर ब्लास्टकांड में फैक्ट्री संचालक समेत 5 के खिलाफ वारंट:घटना के बाद से सभी हैं फरार, गिरफ्तारी नहीं होने पर होगी कुर्की

मुजफ्फरपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुजफ्फरपुर की नूडल्स फैक्ट्री जहां ब्लास्ट के बाद पसरा मलवा। - Dainik Bhaskar
मुजफ्फरपुर की नूडल्स फैक्ट्री जहां ब्लास्ट के बाद पसरा मलवा।

मुजफ्फरपुर के बेला स्थित नूडल्स फैक्ट्री में बॉयलर ब्लास्ट कांड में फैक्ट्री संचालक समेत पांच के खिलाफ कोर्ट ने वारंट जारी कर दिया है। आरोपियों में फैक्ट्री संचालक विकास मोदी, उसकी पत्नी श्वेता मोदी, मैनेजर उदय शंकर, सुपरवाइजर राहुल और दिग्विजय शामिल हैं। इन सभी पर घटना के बाद FIR भी दर्ज कराया गया था। इनकी गिरफ्तारी को लेकर SSP जयंतकांत ने SIT का गठन भी किया था। राजधानी पटना से नेपाल बॉर्डर तक SIT ने सभी संभावित ठिकानों पर रेड की। लेकिन, इनका सुराग नहीं मिला। इसके बाद सोमवार को केस के IO सह बेला थानेदार ने कोर्ट में वारंट के किये अर्जी दी। जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया।

अब एक बार फिर से पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी करेगी। इस दौरान दूसरे प्रदेश में भी जा सकती है। क्योंकि, आरोपियों के कुछ संभावित ठिकानों की जानकारी टीम के हाथ लगी है। जो बिहार से बाहर का बताया जा रहा है। लेकिन, पुलिस ने अनुसंधान बाधित होने के कारण इसका खुलासा नहीं किया है।

संपत्ति हो सकती कुर्क
वारंट लेने के बाद भी अगर गिरफ्तारी नहीं हुई तो पुलिस फिर से कोर्ट में इश्तेहार के लिए अर्जी देगी। अगर कोर्ट ने आदेश दे दिया तो आरोपियों के घर और इश्तेहार चस्पाया जाएगा। इसके बाद भी आरोपी हाजिर नहीं हुए तो उनकी संपत्ति को कुर्क किया जाएगा।

यह हुई थी घटना
गत साल दिसंबर अंतिम सप्ताह में नूडल्स फैक्ट्री में बॉयलर विस्फोट हुआ था। जिसमें 7 मजदूरों की मौत हो गई थी। वहीं, एक दर्जन मजदूर घायल हो गए थे। धमाका से बगल की चुरा मिल और एक दैनिक अखबार का प्रिंटिंग प्रेस भी क्षतिग्रस्त हो गया था। मामले में फैक्ट्री संचालक समेत 5 लोगों को आरोपी बनाते हुए बियाडा के औद्योगिक प्रभारी प्रशांत कुमार ने FIR दर्ज कराई थी। इसमें इन सभी पर बॉयलर जांच और मरम्मत कराने में लापरवाही बरतने का आरोप था।

खबरें और भी हैं...