मांग / एसकेएमसीएच में काेराेना आईसीयू नहीं हाेने पर आईएमए ने जताई चिंता, आज जिलाधिकारी से मिलेगा प्रतिनिधिमंडल

X

  • एसकेएमसीएच में सीरियस मरीजों के इलाज की भी समुचित व्यवस्था की जाए

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 07:30 AM IST

मुजफ्फरपुर. जिले में कोरोना के मरीजों की लगातार बढ़ती संख्या और सीरियस हो रहे मरीजों के इलाज में कमी पर आईएमए ने चिंता व्यक्त की हैं। खास कर, चिकित्सा पदाधिकारियांे एवं कर्मचारियाें के इलाज के लिए एसकेएमसीएच में काेराेना आईसीयू नहीं हाेने पर भी चिंता जताई है। आइएमए के अध्यक्ष डॉ. संजय कुमार ने कहा कि सीरियस मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है और पटना में सिर्फ दो ही सरकारी अस्पताल एनएमसीएच और एम्स में इलाज की सुविधा उपलब्ध है।

 वहां भी बेड और वेंटिलेटर मरीजों से लगभग फूल हैं। ऐसे में अगर मरीज गंभीर होते है तो उन्हें इलाज के लिए कहां लेकर जाया जाएगा। डॉ संजय ने कहा कि सोमवार को आईएमए का प्रतिनिधिमंडल एसकेएमसीएच  के प्राचार्य व अधीक्षक से मिल कर अस्पताल में इलाज की सुविधा सुनिश्चित करवाने की मांग की। साथ ही कहा कि मरीजों के लिए एसकेएमसीएच में इलाज की समुचित व्यवस्था की जाय। इस संबंध में प्रधान सचिव को भी पत्र लिखा गया है।

कहा कि अगर एसकेएमसीएच में सीरियस कोरोना मरीजों का इलाज शुरू नहीं हुआ तो आईएमए आंदोलन का मार्ग अपनाने को मजबूर होगी। डॉ संजय ने कहा कि मुजफ्फरपुर समेत आसपास के जिलों के लिए एसकेएमसीएच व सदर अस्पताल में कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है। एसकेएमसीएच में सारी सुविधा होने के बावजूद इलाज की अनुमति नहीं मिल रही हैं। ऐसी स्थिति में मरीज अगर गंभीर हो रहे हैं और पटना रेफर हो रहे हैं तो वहां पहुंचते- पहुंचते स्थिति नाजुक हाे जा रही है। साेमवार की रात आईएमए ने शहर के सभी डाॅक्टराें के साथ वेबिनार कर इस गंभीर मामले में चर्चा की। निर्णय लिया गया है कि मंगलवार काे अाईएमए का प्रतिनिधिमंडल डीएम से मिलकर एसकेएमसीएच में काेराेना आईसीयू खाेला जाए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना