आखिरकार बिक गई कल्याणी मछली मंडी की जमीन:पूर्व मेयर समीर हत्याकांड में सामने आया था इसका विवाद, टूट जाएगा पूरा मार्केट

मुजफ्फरपुरएक महीने पहलेलेखक: शैलेश कुमार
  • कॉपी लिंक
शहर की चर्चित कल्याणी मंडी जिसे तोड़ने का हाईकोर्ट ने दिया है आदेश। - Dainik Bhaskar
शहर की चर्चित कल्याणी मंडी जिसे तोड़ने का हाईकोर्ट ने दिया है आदेश।

पूर्व मेयर समीर कुमार हत्याकांड के समय जिस कल्याणी मछली मंडी के मार्केट को लेकर प्रॉपर्टी डीलरों में विवाद की बात सामने आई थी, उस मछली मंडी की जमीन बिक गई है। कल्याणी मछली मंडी की मालकिन चित्रलेखा सिंह की रिट याचिका पर हाईकोर्ट ने मार्केट तोड़ने का निर्णय 6 सप्ताह में नगर आयुक्त को लेने का आदेश दिया है। चित्रलेखा सिंह ने इसी 27 जुलाई को पौने दस कट्ठा जमीन प्रॉपर्टी डीलर आशुतोष शाही, मधुर ट्रेडिंग प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर शुभम सिंह व व्यवसायी शक्ति स्वरूप शर्मा के नाम रजिस्ट्री की। 3 दिसंबर 21 को चित्रलेखा सिंह ने मुजफ्फरपुर नगर आयुक्त को आवेदन देकर बिल्डिंग को जर्जर बताते हुए तोड़ने का अनुरोध किया था।

नगर निगम एक्ट के तहत बिल्डिंग तोड़ने के लिए निगम प्रशासन आदेश जारी कर सकता है। लेकिन, चित्रलेखा सिंह के आवेदन पर तत्कालीन नगर आयुक्त ने किसी तरह का कोई फैसला नहीं लिया। सुरसंड स्टेट से जुड़े प्रेम प्रसाद नारायण सिंह की पत्नी चित्रलेखा सिंह वर्तमान में नई दिल्ली स्थित ग्राउंड फ्लोर महारानी बाग में रह रही हैं। नगर निगम 2007 की धारा 336 के तहत अपनी शक्ति का प्रयोग करते हुए इमारत ध्वस्त कर सकता था। लेकिन, किसी तरह का फैसला नहीं लेने पर मालकिन ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

चित्रलेखा सिंह ने इस मामले में डीएम, नगर आयुक्त, मुशहरी अंचलाधिकारी व नगर थाना अध्यक्ष के खिलाफ रिट याचिका दायर की। हाईकोर्ट में नगर निगम की ओर से हाईकोर्ट में एडवोकेट ने पक्ष रखा। इस मामले की सुनवाई करते हुए 6 सप्ताह के अंदर हाईकोर्ट ने मुजफ्फरपुर के नगर आयुक्त को जर्जर मार्केट तोड़ने का निर्णय लेने का आदेश दिया है।

ये है मामला : आरोपित गोविंद ने पूर्व मेयर समीर कुमार की हत्या जमीन विवाद में होने का किया था खुलासा
पूर्व मेयर समीर कुमार हत्याकांड के आरोपी गोविंद को एसटीएफ ने एयरपोर्ट पर गिरफ्तार किया था। गोविंद ने पूछताछ में खुलासा किया था कि पूर्व मेयर समीर कुमार की हत्या मछली मंडी की जमीन को लेकर हुई। कल्याणी चौक मछली मंडी की जमीन को लेकर स्थानीय प्रॉपर्टी डीलर और श्यामनन्द मिश्रा से अंदरूनी विवाद चल रहा था। समीर हत्याकांड के पीछे श्यामनंदन मिश्रा का भी नाम आया। पुलिस के मुताबिक, गोविंद ने ही पूर्व मेयर समीर कुमार की हत्या की थी। मुजफ्फरपुर जेल में बंद ट्रांसपोर्टर पिंटू पर आरोप है कि उसी ने गोविंद को एके-47 मुहैया कराई थी। आरोपी श्यामनंदन मिश्रा को भी समीर हत्याकांड में जेल भेजा गया था।

खबरें और भी हैं...