पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कॉलेजों में हड़कंप:बिना एिफलिएशन नामांकन लिए 40 काॅलेजों के नाम पोर्टल से हटे, 30 हजार स्टूडेंट परीक्षा से होंगे वंचित

मुजफ्फरपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दैनिक भास्कर के 17 फरवरी के अंक में प्रकाशित खबर। - Dainik Bhaskar
दैनिक भास्कर के 17 फरवरी के अंक में प्रकाशित खबर।
  • माेबाइल पर जा रहा मैसेज -पार्ट वन की परीक्षा के लिए फॉर्म भरे परीक्षार्थियों की लौटा दी जाएगी राशि
  • विवि में चक्कर लगा रहे प्राचार्य, कई का संंबंधन का भी दावा

2019-22 सत्र में स्नातक में नामांकन लिए बिना संबंधन वाले कॉलेजों पर कार्रवाई शुरू हो गई है। बिहार विश्वविद्यालय ने ऐसे कॉलेजों के नाम पोर्टल से हटा दिए हैं। जिन छात्र-छात्राओं ने पार्ट वन के लिए फाॅर्म भरा था, उनकी राशि लाैटेगी। फॉर्म भरनेवाले छात्र-छात्राओं के मोबाइल पर मैसेज भी जा रहा है।

परीक्षा मार्च में ही संभावित है। इससे संबंधित कॉलेजाें में हड़कंप है। कई कॉलेजों के प्रबंधक व प्राचार्य मंगलवार को विवि में चक्कर लगाते दिखे। विवि पदाधिकारी के मुताबिक 40 ऐसे कॉलेज हैं जिनका संबंधन नहीं हाेने के बावजूद 2019 में नामांकन ले लिया गया।

विवि ने उन छात्रों का रजिस्ट्रेशन भी कर लिया। लेकिन, पार्ट-1 की परीक्षा के लिए फॉर्म भराने के दौरान जब संबंधन की पड़ताल हुई तो विभाग ने रोक लगा दी है। कॉलेज प्रबंधन का कहना है कि इससे करीब 30 हजार छात्र-छात्रा परीक्षा देने से वंचित हो जाएंगे। नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि उनके कॉलेज का दूसरे कॉलेज से छात्रों को टैग कर परीक्षा देने की अनुमति है। कई ने ताे कहा कि 20 तक संबंधन भी है।

जांच के लिए प्रोवीसी की अध्यक्षता में कमेटी गठित

मामला सामने आने पर परीक्षा लेने पर रोक के बाद कुलपति डॉ. हनुमान प्रसाद पाण्डेय ने प्रतिकुलपति की अध्यक्षता में 7 सदस्यीय कमेटी गठित की है। कमेटी में इंस्पेक्टर ऑफ कॉलेज साइंस-आटर्स, कुलसचिव, परीक्षा नियंत्रक, यूएमआईएस कॉर्डिनेटर, उप कुलसचिव वन हैं। कमेटी विवि से हुए रजिस्ट्रेशन व कॉलेज टैग करने के प्रस्ताव को भी देखेगी।

एक्सपर्ट व्यू : नामांकन गलत था तो रजिस्ट्रेशन कैसे, यह विवि पर सवाल है

सीनेटर डॉ. धनंजय कुमार सिंह ने कहा है कि पूरे मामले में बीआरए बिहार विश्वविद्यालय भी सवालों के घेरे में है। जब नामांकन गलत था तो छात्र-छात्राओं का रजिस्ट्रेशन कैसे हुआ? अब परीक्षा देने पर रोक लगाई जा रही है। विश्वविद्यालय को जल्द इस पर निर्णय लेना चाहिए।

परीक्षा विभाग ने बिना संबंधन वाले कॉलेजों के छात्र-छात्राओं के फॉर्म भरने पर रोक लगा दी है। इसमें आगे क्या हो सकता है, इस पर जल्द ही बैठक कर फैसले लिए जाएंगे। -डॉ. आरके ठाकुर, कुलसचिव, बिहार विवि।

2018 में भी इन काॅलेजाें की कोर्ट के आदेश पर परीक्षा हुई थी; सरकार सख्त है नहीं ले सकते परीक्षा : कंट्रोलर

सवाल : कई कॉलेजों के छात्रों को परीक्षा से रोका जा रहा, क्यों ?

उत्तर : 2019-22 में अंगीभूत व अनुदानित कॉलेजों को ही मान्यता थी। 40 का संबंधन नहीं था। इसलिए फॉर्म भरने से रोका गया है।

सवाल : लेकिन, कई कॉलेजों ने ताे फॉर्म भर भी लिए हैं?

उत्तर : पिछले सत्र के अनुत्तीर्ण छात्रों के फॉर्म भरने के पोर्टल पर ऐसे कॉलेज के नाम थे। लेकिन, 2019 सत्र में भी फॉर्म भरा दिए गए।

सवाल : इन छात्रों का रजिस्ट्रेशन विवि ने किया है, अवैध हैं तो कैसे हुआ?

उत्तर : यह जांच का विषय है। इस पर विवि निर्णय लेगा। सरकार सख्त है, बिना संबंधन वाले कॉलेजों के स्टूडेंट्स की परीक्षा नहीं ली जा सकती

सवाल : कॉलेज प्रबंधकों का कहना है कि उनके कॉलेजों का एफिलिएशन है?

उत्तर : परीक्षा फॉर्म भराने से पहले मैंने एफिलिएशन सेक्शन से संबंधन की रिपोर्ट मांगी थी। जिनकी मान्यता की लिस्ट दी गई है वे 61 कॉलेज ही हैं।

सवाल : 2018 में भी बिना एफिलिएशन के परीक्षा हुई थी

उत्तर : उस वक्त भी परीक्षा से रोका गया था। कोर्ट के आदेश पर दूसरे मान्यता प्राप्त कॉलेजों से टैग कर परीक्षा ली गई थी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें