पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

डॉ. मृदुला सिन्हा के मन की बात:टू बीएचके नहीं, थ्री बीएचके हो फ्लैट, माता-पिता भी रह सकें

मुजफ्फरपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आखिरी बार सर्किट हाउस में बताई थी मन की बात

दादी-नानी के संग पले-बढ़े बेटा-बेटी का संस्कार विशेष ही होगा। वर्तमान में बहुत सारी समस्याओं का कारण दादा-दादी विहीन घर है। फ्लैट संस्कृति में यह जरूरी है कि टू बीएचके नहीं बल्कि थ्री बीएचके के फ्लैट हों ताकि उसमें पति-पत्नी के साथ एक ही घर में माता-पिता भी रहें ताकि बच्चों में संस्कार के फूल खिल सकें।

गोवा की राज्यपाल जब आखिरी बार मुजफ्फरपुर आईं थी तो सर्किट हाउस में शहर में बढ़ती फ्लैट संस्कृति पर उन्होंने अपनी राय जाहिर की थी। उनका मानना था कि शहरी मध्यम वर्गीय आवास गृहों में दो ही बेडरूम बनाए जा रहे हैं। भला वैसे फ्लैंटों में दादा-दादी कहां रहें। और दादा-दादी नहीं रहें तो बच्चों का संतुलित विकास कैसे हो।

बहुत शहरी बच्चे अपने दादा-दादी का नाम तक नहीं जानते। उनके साथ नहीं रहने से उनकी आत्मीयता भी नहीं बढ़ती। दादा-दादी के सान्निध्य से ही बच्चों में स्नेह, सहनशीलता, दया के भाव का बीजारोपण होता है।
नारी मुक्ति नहीं बल्कि नारी शक्ति आंदोलन के लिए किया संघर्ष: डॉ. मृदुला सिन्हा का मानना था कि नारी मुक्ति नहीं बल्कि नारी शक्ति आंदोलन की जरूरत है। नारी मुक्ति पश्चिम का नारा है। भारतीय संदर्भ में नारी के लिए सबसे प्यारा पिता, भाई, पति व पुत्र है। इससे महिलाओं को मुक्ति नहीं चाहिए। उनसे सम्मान चाहिए।

तन भले ही गोवा या दिल्ली में रहा हो, मन तो मुजफ्फरपुर में रहा

राज्यपाल बनने के बाद भी उन्हें मुजफ्फरपुर से विशेष लगाव था। कारण कि यहां उनका मायका और ससुराल दोनों ही था। अक्सर वे मंचों से कहती थीं कि उनका तन भले ही गोवा में होता है लेकिन मन हमेशा मुजफ्फरपुर में ही रहता है। शहर में स्वच्छता का संदेश देने के लिए उन्होंने नवरत्न बनाए थे। ये सभी लोगों को स्वच्छता को लेकर जागरूक करने का कार्य कर रहे हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपका कोई भी काम प्लानिंग से करना तथा सकारात्मक सोच आपको नई दिशा प्रदान करेंगे। आध्यात्मिक कार्यों के प्रति भी आपका रुझान रहेगा। युवा वर्ग अपने भविष्य को लेकर गंभीर रहेंगे। दूसरों की अपेक्षा अ...

और पढ़ें