कोरोना से जंग:अल्पसंख्यक छात्रावास में खुला कोविड ओपीडी, डेडिकेटेड सेंटर; निजी नर्सिंग होम पर पूरी निगरानी रखी जा रही

मुजफ्फरपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • काेराेना संक्रमित मरीजों काे यहां रखकर किया जाएगा इलाज

सिकंदरपुर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास में खुला कोविड ओपीडी व कोविड डेडिकेटेड सेंटर बुधवार से काम करने लगा। उद्घाटन करते हुए डीएम प्रणव कुमार ने कहा कि कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के लिए प्रचार-प्रसार व जागरूकता अभियान के साथ कोविड मरीजों का इलाज सरकारी-निजी अस्पतालों में किया जा रहा है। निजी नर्सिंग होम पर पूरी निगरानी रखी जा रही है।

ऑक्सीजन के उत्पादन-वितरण पर भी नजर रखी जा रही है। कोविड ओपीडी व डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर, कोरोना मरीजों के इलाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। सीएस डॉ. एसके चौधरी ने बताया कि काेराेना पॉजिटिव पाए गए मरीज बिना समय गंवाए इस ओपीडी में अपना इलाज शुरू करा सकते हैं। यहां प्रारंभिक इलाज व काउंसिलिंग की व्यवस्था है। सैंपल लेकर जांच भी की जाएगी। बताया कि रोस्टर वाइज चिकित्सकों व पारा मेडिकल स्टाफ की प्रतिनियुक्ति की गई है। इसकी क्षमता 100 बेड की है। यहां ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था है।

नगर आयुक्त ने डीएम से एंबुलेंस खरीदारी की मांगी इजाजत

मुजफ्फरपुर | नगर आयुक्त विवेक रंजन मैत्रेय ने बुधवार को डेड बॉडी ढाेने के लिए एंबुलेंस खरीदारी की डीएम से इजाजत मांगी है। महापौर के पत्र के आलोक में नगर आयुक्त ने डीएम को पत्र लिखा है। नगर आयुक्त का कहना है, एंबुलेंस खरीदारी की प्रक्रिया टेंडर से पूरी हाेगी तो इसमें एक माह लगेगा।

खबरें और भी हैं...