'बलिप्रथा' पर प्रतिबंध के विरोध में बवाल:मुजफ्फरपुर में पुलिस पर पथराव, थानेदार समेत एक दर्जन जख्मी; मौके से भागकर बचाई जान, फोर्स के आने पर लाठीचार्ज कर खदेड़ा

मुजफ्फरपुर9 महीने पहले
प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज करती पुलिस।

मुजफ्फरपुर के देवरिया थाना क्षेत्र स्थित रामलीला गाछी में शुक्रवार को पशुओं की सामूहिक बलि देने पर प्रतिबंध लगाने पर बवाल हो गया। पुलिस पर पथराव किया गया। इसमें थानेदार संजय स्वरूप समेत एक दर्जन पुलिसकर्मी जख्मी हो गए। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस की तरफ से 6 राउंड फायरिंग की गई। इसके बाद लाठीचार्ज कर उपद्रवियों को खदेड़ दिया गया। अनियंत्रित स्थिति की सूचना पर DM प्रणव कुमार और SSP जयंतकांत दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों से शांति बनाए रखने की अपील की गई।

SSP और SDPO राजेश शर्मा के नेतृत्व में पुलिस फोर्स ने इलाके में फ्लैग मार्च किया। इसके बाद स्थिति नियंत्रित हुई। धार्मिक आयोजन पर रोक लगा दिया गया। SDPO ने बताया कि स्थिति पूरी तरह नियंत्रित में है। पुलिस की तरफ से फायरिंग नहीं हुई है। आगे की कार्रवाई की जा रही है।

सामूहिक बलि देने पर लगाई थी रोक

स्थानीय लोगों का कहना है कि रामलीला गाछी में एक धार्मिक स्थल है। वहीं पर सावन के अंतिम सप्ताह में महिलाएं पूजा-अर्चना करती हैं। इसके साथ ही वहां पर एक पशु की सामूहिक बलि देने की भी प्रथा है। गुरुवार को पुलिस अधिकारियों ने इलाके में शांति समिति की बैठक आयोजित की थी। इसमे निर्णय लिया गया था कि महिलाएं कोरोना प्रोटोकॉल के तहत पूजा करेंगी। बलि पर रोक रहेगी। इससे सामाजिक सौहार्द्र बिगड़ सकता है। ग्रामीणों और शांति समिति के सदस्यों ने इसमें अपनी सहमति दी थी।

बलि देने पहुंचा तो होने लगा हंगामा

शुक्रवार को कुछ लोग एक पशु को लेकर वहां पर बलि देने पहुंच गए। पुलिस बल वहां पहले से मुस्तैद थी। बलि देने पर रोक लगा दिया। इस बात को लेकर विवाद शुरू हो गया। पुलिस के साथ जोर-जबरदस्ती करते हुए बलि देने पर अड़ गए। देखते-देखते स्थिति अनियंत्रित हो गई। भीड़ में से कुछ उपद्रवियों ने पथराव शुरू कर दिया। अचानक हुए हमले से पुलिसकर्मी संभल न सके। थानेदार समेत कई जख्मी हो गए।

पुलिस ने किया लाठीचार्ज

उपद्रवियों द्वारा अचानक पथराव से पुलिसकर्मियों को पीछे हटना पड़ा। कुछ जवानों ने छिपकर अपनी जान बचाई। इसके बाद वरीय अधिकारियों को स्थिति अनियंत्रित की सूचना दी गयी। जिले से सैकड़ों अतिरिक्त फोर्स भेजा गया। जवानों ने लाठीचार्ज कर उपद्रवियों को भगाया।

पुलिस कर रही कैम्प

इलाके में शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए पुलिस फोर्स की तैनाती कर दी गई है। चप्पे-चप्पे पर नज़र रखी जा रही है। SDPO ने बताया कि सभी संवेदनशील जगहों पर पुलिस की नज़र है। कोई भी संदिग्ध गतिविधि होने पर त्वरित कार्रवाई करने का आदेश दिया गया है। सोशल मीडिया पर भी नजर रखी जा रही है।

खबरें और भी हैं...