पीएनजी सप्लाई शुरू:शहर की रसाेई में बिछ रही पाइप; नए साल में पीएनजी से पकेगा खाना, एलपीजी से 40% हाेगी सस्ती

मुजफ्फरपुर2 महीने पहलेलेखक: शिशिर कुमार
  • कॉपी लिंक
  • शहर के 50 हजार घराें में कनेक्शन के बाद देहात में भी पहुंचेगी पाइप से गैस, पहले फेज में मिठनपुरा इलाके में आवेदन के अनुसार मिल रहा कनेक्शन

शहर के मिठनपुरा, पीएंडटी काॅलाेनी, बेला राेड, मस्जिद चाैक और इमली चाैक आदि इलाकों में पाइप्ड नैचुरल गैस यानी पीएनजी की सप्लाई के लिए घराें में पाइपलाइन बिछाई जा रही है। इन इलाकों में पहले फेज में पीएनजी कनेक्शन देना है। अभी प्रयोग हाेने वाली एलपीजी की तुलना में रसाेई तक पाइपलाइन से पहुंचने वाली गैस 40 प्रतिशत तक सस्ती हाेगी। पहले चरण में रसाेई तक पाइप से गैस आपूर्ति के लिए इंडियन ऑइल काॅर्पाेरशन तेजी से तैयारियां कर रही है।

वर्ष 2022 की पहली तिमाही में ही गैस पीएनजी सप्लाई शुरू हाे जाएगी। कंपनी के अनुसार मार्च तक लक्ष्य पा लिया जाएगा। फिलहाल कनेक्शन का काम चल रहा है। प्रोजेक्ट अफसर रवि किशन ने कहा कि कनेक्शन आवेदन के अनुसार मिठनपुरा इलाके के घराें में किचन तक पाइप लगाई जा रही है। जल्द ही शहर के सभी 49 वार्ड में काम शुरू हाेगा। पहले फेज में 50 हजार घराें में कनेक्शन देना है। अलग-अलग एजेंसियों काे काम दिया गया है। 250 कराेड़ के इस प्रोजेक्ट के दूसरे फेज में जिले भर में पीएनजी कनेक्शन मिलेगा।

बरौनी से एनएच 28 के साथ सकरा तक अंडरग्राउंड पाइपलाइन बिछाई जा चुकी
सकरा से दिघरा तक पाइप गिराई, अंडरग्राउंड लाइनिंग का तेजी से चल रहा काम
दिघरा जंक्शन प्वाॅइंट से महज 2 किलोमीटर दूर मिठनपुरा इलाके में कनेक्शन का काम शुरू।

इस तरह मिल रहा है पीएनजी का कनेक्शन

प्रोजेक्ट अफसर के अनुसार टैरिफ प्लान के तहत उपभाेक्ताओ से आवेदन लिया जाता है। पहले रेंटल प्लान में कनेक्शन लेने पर 40 रुपए किलाे गैस मिलेगी। हर माह 100 रुपए शुल्क भी देना हाेगा। दूसरे प्लान में उपभोक्ता काे 6650 रुपए जमा कराना है। इसमें इसमें 6500 सिक्युरिटी मनी हाेगी। काेई मासिक चार्ज नहीं लगेगा। केवल प्रतिकिलो 40 रुपए देने हाेंगे। यदि आप महीने में 15 किलाे गैस जलाते हैं, ताे पहले प्लान के अनुसार 600 गैस की कीमत हाेगी। साै रुपए मासिक शुल्क लगेगा। कुल 700 रुपए देने हाेंगे। दूसरे टैरिफ के अनुसार सिर्फ 600 रुपए देने हाेंगे। जबकि, एलपीजी सिलेंडर में 14.20 किलाे गैस के लिए करीब हजार रुपए देने हाेते हैं। इस तरह तीन से चार साै रुपए मासिक बचत हाेगी।

रजिस्ट्रेशन के लिए आधार कार्ड और बिजली बिल जरूरी
कनेक्शन के लिए उपभाेक्ताओं काे पहले रजिस्ट्रेशन कराना हाेगा। संबंधित क्षेत्र के ठेकेदार के पास आधार कार्ड और बिजली बिल की फाेटाे कॉपी के साथ मोबाइल नंबर देना हाेगा। फिर रजिस्ट्रेशन के बाद कनेक्शन लगेगा। प्रोजेक्ट 2021 में ही पूरा हाेना था। लेकिन, काेराेना के कारण मार्च 2022 तक बढ़ाना पड़ा।

खबरें और भी हैं...