मुजफ्फरपुर सेंट्रल जेल के बंदी की SKMCH में मौत:परिजनों ने पुलिस की पिटाई से मौत का लगाया आरोप, पुलिस बोली- अल्कोहोलिक था, शराब नहीं मिलने से गई जान

मुजफ्फरपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक चन्देश्वर राम की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
मृतक चन्देश्वर राम की फाइल फोटो।

मुजफ्फरपुर सेंट्रल जेल में बंद एक बंदी की आज सुबह SKMCH (श्री कृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल) में मौत हो गई। मृतक की पहचान बेला छपरा गांव के चन्देश्वर राम (40) के रूप में हुई है। उसे 18 नवंबर को बेला थाना की पुलिस ने बेला छपरा गांव से दो लीटर चुल्हाई (देसी) शराब के साथ गिरफ्तार किया था। FIR दर्ज कर इसे जेल भेज दिया गया था। मंगलवार को उसकी तबीयत बिगड़ने लगी। इसके बाद उसे जेल अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां से प्राथमिक उपचार के बाद SKMCH में भर्ती कराया गया। पुलिस अभिरक्षा में उसका इलाज चल रहा था। आज उसकी मौत हो गई।

इधर, घटना की जानकारी मिलने पर पर परिजन SKMCH पहुंचे। मृतक के भाई मंटू कुमार ने पुलिस की पिटाई से मौत होने का आरोप लगाया है। कहा कि गिरफ्तारी के दिन उनके भाई अपने दरवाजे पर बैठकर अकेले ताड़ी पी रहे थे। इसी दौरान पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। ताड़ी बेचने का आरोप लगाते हुए गिरफ्तार कर ले गई। उनके साथ मारपीट की गई। इसके बाद जेल भेज दिया था। उसी पिटाई के कारण उनकी तबीयत बिगड़ी और मौत हो गई।

शरीर पर कई जगहों पर जख्म के निशान
परिजन ने कहा कि उनके शरीर के कई जगहों पर जख्म के निशान हैं। हाथ और सिर में सूजन था। दांत भी टूटा हुआ था, खून भी निकला था। इससे स्पष्ट हो रहा है कि पुलिस द्वारा जमकर पिटाई की गई है। पिटाई के कारण ही उसकी मौत हुई है। घटना को लेकर परिजन और आसपास के लोगों में आक्रोश हैं। उचित मुआवजा और कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

जेल प्रशासन ने कहा- अल्कोहोलिक था
इधर, जेल अधीक्षक ब्रिजेश कुमार मेहता ने बताया कि वह अल्कोहोलिक था। जेल में शराब नहीं मिलने के कारण उसकी तबियत बिगड़ने लगी थी। वह बेचैन रहने लगा था। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जेल में सभी बंदियों को मेडिकल जांच के बाद ही भर्ती किया जाता है। वहीं, बेला थानेदार धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि- पुलिस पिटाई का आरोप गलत है। वह शराब बेचता था। उसी आरोप में पकड़कर जेल भेजा गया था। मारपीट नहीं हुई थी। मेडिकल जांच के बाद जेल भेजा गया था। जांच में वह बिल्कुल स्वस्थ्य पाया गया था।