पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लाठियां चटकाईं:लॉकडाउन में दुकानें लॉक, लेकिन 4 घंटे तक फल-सब्जी मंडियों में रही ग्राहकों की कतार

मुजफ्फरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दूसरे दिन भी दोपहर बाद एक्शन में दिखी पुलिस, कई लोगों पर लाठियां चटकाईं
  • सुबह 7 बजे ही चौक-चौराहे व बाजार में सड़क किनारे सजीं दुकानों पर खरीदारी को जमा हुई भीड़

लॉकडाउन में भी सुबह में शहर के बाजार व चौक-चौराहे पर भीड़ उमड़ रही है। फल-सब्जी मंडियों में तो कोरोना संक्रमण की कतार लगी रही। कलमबाग चौक, पोलिटेक्निक चौक, मिठनपुरा चौक, कल्याणी चौक हो या पुरानी बाजार। सभी मंडियों में सोशल डिस्टेंसिंग तार-तार होती रही। तकरीबन 4 घंटे तक सड़कों पर भीड़ और आवाजाही देख कहीं से ऐसा नहीं लगा रहा था कि लॉकडाउन भी है। 11 बजे तक बाइक, कार तो सामान्य ढंग से चले ही।

ऑटो में भी क्षमता से अधिक लोगों को चढ़ाकर परिचालन होता रहा। हालांकि, दोपहर बाद दूसरे दिन भी पुलिस एक्शन में आयी और लाठियां चटकीं तो लोग घरों में लॉक हो गए। दोपहर 12 बजे कलमबाग चौक, मिठनपुरा चौक, सदर अस्पताल रोड पर गाड़ियां लगाकर पुलिस राहगीरों को रोक पूछताछ करती दिखी। इस दौरान कई लोगों का चालान भी कटा। कलमबाग चौक पर काटने को लेकर एक बाइक सवार हंगामा करने लगा। अन्य कई जगहों पर भी पुलिस से तू-तू-मैं-मैं हुई। लॉकडाउन में लेबर-कारीगर को रोके जाने से इंडस्ट्री में नाइट शिफ्ट में उत्पादन 50 प्रतिशत प्रभावित | लॉकडाउन का असर अब उद्योगों पर दिखने लगा है। बेला औद्योगिक क्षेत्र में तकरीबन 100 से अधिक इंडस्ट्री में नाइट शिफ्ट में भी काम होता है। लेकिन, शाम में लेबर-कारीगर को रोके जाने से कई लेबर आने से इनकार कर रहे हैं। इसका असर उत्पादन पड़ा है। उद्यमी अवनीश किशोर ने कहा कि कर्मियों के आने से इनकार करने पर इंडस्ट्री में ही उनके रहने की व्यवस्था की है। भरत अग्रवाल ने कहा कि फिलहाल उत्पादन आधी से भी कम हो गई है।

खबरें और भी हैं...