मरीजों को नहीं मिलती एंबुलेंस:कभी चालक फरार तो कभी टेक्नीशियन; डीजल, दवा और ऑक्सीजन खत्म होने का बहाना

मुजफ्फरपुर2 महीने पहलेलेखक: धनंजय मिश्र
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल में खड़ी एंबुलेंस। - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल में खड़ी एंबुलेंस।
  • जिले में 67 एंबुलेंस, फिर भी रोगियों काे नहीं मिलती सुविधा, निजी एंबुलेंस का लेना पड़ता है सहारा
  • सिविल सर्जन व डीपीएम ने आउटसोर्सिंग एजेंसी से मांगा स्पष्टीकरण, कॉन्ट्रैक्ट रद्द करने की चेतावनी

सदर अस्पताल, एसकेएमसीएच व सभी पीएचसी मिला कर जिले में 67 एंबुलेंस संचालित हैं। लेकिन, एंबुलेंस चालकों की मनमानी से रेफर मरीजों को इसकी सुविधा नहीं मिल पाती है। चालक व ईएमटी हमेशा गायब रहते हैं। जिस कारण मरीजाें काे निजी एंबुलेंस का सहारा लेना पड़ता है।

कई बार पीएचसी से रेफर गंभीर मरीजाें काे भी एंबुलेंस चालक एसकेएमसीएच ले जाने से इंकार कर देते है। यहीं नहीं, सदर अस्पताल व पीएचसी में संचालित अधिकतर एंबुलेंस में न डीजल रहती है और न दवा-ऑक्सीजन। कई पीएचसी प्रभारी व सदर अस्पताल के उपाधीक्षक ने सिविल सर्जन से एंबुलेंस चालकाें की मनमानी के खिलाफ लिखित शिकायत की है। जिसके बाद सिविल सर्जन डाॅ. विनय कुमार शर्मा व डीपीएम वीपी वर्मा ने आउटसाेर्सिंग एजेंसी से लिखित जवाब मांगा है। कहा है कि इसमें शीघ्र सुधार नहीं हाेने पर कांन्ट्रैक्ट रद्द करने की अनुशंसा की जाएगी।

यह है मामला
26 अगस्त की रात 7.30 बजे पुलिस एक मरीज काे मड़वन पीएचसी लेकर आई थी। जहां से उसे एसकेएमसीएच रेफर कर दिया गया। लेकिन, एंबुलेंस चालक ने ले जाने से इनकार कर दिया। जिसकी शिकायत महिला चिकित्सक ने पीएचसी प्रभारी से की। बताया था कि इससे पहले भी 18 और 25 अगस्त को भी चालक ने मरीज को ले जाने से इनकार कर दिया था।

इन प्रखंडाें में इतनी एंबुलेंस
औराई-3, बंदरा-3, बाेचहां-3, गायघाट-3, कांटी-3, कटरा-3, कुढनी-3, मडवन-3, मीनापुर-4, माेतीपुर-4, मुराैल-3, मुशहरी-3, पारू-3, सकरा-4, साहेबगंज-3, सरैया-3, सदर अस्पताल-6, एसकेएमसीएच-10।

  • सर्वर डाउन हाेने के कारण पेट्राेल पंप काे पैसा ट्रांसफर नहीं हाे पा रहा था, इस कारण एंबुलेंस में डीजल नहीं हाेने के कारण मरीजाें काे ढाेने में परेशानी हुई है। 8 एंबुलेंस अभी गैराज में मरम्मत के लिए खड़ी है। हर माह सभी एंबुलेंस की माॅनिटरिंग कर खराबी का आकलन किया जाता है। दवा व आवश्यक उपकरण उपलब्ध है। - अब्बास कुमार, एसीओ, मुजफ्फरपुर
खबरें और भी हैं...