पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • The Funeral Took Place With State Honors, The Death Of The Freedom Fighter Shook From The City To The Village, Went To Jail At The Age Of Just 15, The British Were A Witness To The India Movement

स्वतंत्रता सेनानी शुभनारायण शर्मा का निधन:राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार, स्वतंत्रता सेनानी के निधन से शहर से गांव तक शाेक, महज 15 वर्ष की आयु में गए थे जेल,अंग्रेजों भारत छाेड़ाे आंदाेलन के साक्षी रहे

मुजफ्फरपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तिरंगा ओढ़ा कर श्रद्धांजलि देते हुए पूर्व मंत्री सुरेश शर्मा। - Dainik Bhaskar
तिरंगा ओढ़ा कर श्रद्धांजलि देते हुए पूर्व मंत्री सुरेश शर्मा।
  • अंग्रेजों भारत छाेड़ाे आंदाेलन के साक्षी रहे शुभनारायण शर्मा का निधन

स्वतंत्रता सेनानी शुभनारायण शर्मा का शनिवार की देर रात निधन हाे गया। वे 91 वर्ष के थे। डेढ़ साल से अस्वस्थ चल रहे थे। निधन के बाद राजकीय सम्मान के साथ उनका पार्थिव शरीर गन्नीपुर स्थित आवास से कांटी स्थित सोती भेड़ियांही गांव ले जाया गया। जहां उनके अंतिम संस्कार में बड़ी संख्या में ग्रामीण एवं शहर के गणमान्य लाेग शामिल हुए।

गांधी से प्रभावित श्री शर्मा 1942 में अंग्रेज भारत छोड़ो आंदोलन से जुड़ गए थे। पाेता चितरंजन शर्मा के अनुसार, उनमें देशभक्ति की एेसी लहर दौड़ी कि वे आजादी आन्दोलन में कूद पड़े। अपने गांव स्थित कांटी में तार घर एवं रेललाइन को उखाड़कर तहस-नहस कर दिया। उसी जुर्म में भारत छोड़ो आंदोलन के दाैरान उन्हें 15 वर्ष की आयु में 6 महीने तक जेल की सजा हुई। वे आजादी बाद भी लगातार सामाजिक कार्याें से जुड़े रहे। हमेशा खादी कुर्ता, खादी धोती और खादी टोपी में रहते थे। यही उनकी पहचान थी।

शुभनारायण शर्मा
शुभनारायण शर्मा

निधन के बाद गन्नीपुर स्थित आवास पर जुटी भीड़
निधन की जानकारी मिलते ही सुबह-सुबह गन्नीपुर स्थित उनके आवास पर शुभचिंतकाें, राजनीतिज्ञाें, समाजसेवियाें की भीड़ जुट गई। विधायक विजेंद्र चौधरी, पूर्व मंत्री सुरेश शर्मा, पूर्व विधान पार्षद डाॅ. नरेन्द्र प्रसाद सिंह, रामकुमार सिंह, डाॅ. तारण राय, रेडक्रॉस के सचिव उदय नारायण सिंह, नागरिक माेर्चा के संस्थापक अध्यक्ष माेहन सिन्हा, भाजपा नेता अरविंद सिंह समेत अन्य ने आवास पर श्रद्धांजलि दी।

प्रशासन की ओर से उपसमाहर्ता प्रीति सिंह ने माल्यार्पण कर तिरंगा ओढ़ाया। बाद में उनका पार्थिव शरीर कांटी स्थित गांव ले जाया गया, जहां वंदे मातरम, भारत माता की जय, शुभनारायण शर्मा अमर रहें के नारे से पूरा गांव गूंज उठा। जिला प्रशासन की ओर से राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ।

बंदूक से सलामी दी गई। पूर्व मंत्री सुरेश शर्मा ने कहा कि उनके निधन से गांधी युग की अंतिम कड़ी की विदाई हो गई है। सांसद अजय निषाद ने कहा कि उनके निधन से पूरा मुजफ्फरपुर शोकाकुल है।

इधर, कांटी स्थित पैतृक निवास पर भी उमड़े लोग
कांटी के सोती भेड़ियाही स्थित पैतृक निवास पर पूर्व मंत्री ईं. अजीत कुमार, कांटी विधायक इसराइल मंसूरी, प्रमुख मुकेश पांडेय, भाजपा नेता हरिमोहन चौधरी, कांग्रेस नेता कृपाशंकर शाही, अजय कुमार, सुदर्शन मिश्र, सरपंच संघ के अध्यक्ष जनार्दन ठाकुर, उमेश शर्मा, अधिवक्ता ललितेश्वर मिश्र, कैलाश मिश्र, मुखिया नवीन कुमार, केशव चौबे, शिक्षक चंद्रभूषण कुमार चंद्र, शंभूनाथ चौबे, कारी साहू, सौरभ साहेब, सोनम साहेब ने श्रद्धांजलि दी। इधर, नागरिक मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार अभिषेक, अंजनी कुमार पाठक, महेन्द्र प्रसाद श्रीवास्तव, डाॅ. जगदीश शर्मा, मुन्नी चौधरी, शिल्पी खुशबू गुप्ता, उषा किरण श्रीवास्तव, प्रेमचन्द्र सिंह, पवन कुमार शांडिल्य, स्वामी राजा झा, संजय कुमार केजड़ीवाल, प्रेमचन्द्र सिंह, रमेश प्रसाद, चिराग पोद्दार, रामनरेश झा, शिवजी सहनी, राणा दीनदयाल, लालबाबू राम, विनोद कुमार, सुरेश कुमार, संजीव साहू आदि ने श्रद्धांजिल दी।

जदयू नेताओं ने जताया शाेक
स्वतंत्रता सेनानी शुभनारायण शर्मा के निधन पर जदयू नेताओं ने गहरी संवेदना व्यक्त की है। पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष विनोद कुशवाहा ने कहा, आजादी की लड़ाई में उनके त्याग को भुलाया नहीं जा सकता। वरिष्ठ नेता शिशिर कुमार नीरज,राजू कुशवाहा, सुरेश सिंह, रामेश्वर सहनी, धनंजय शर्मा, रामेश्वर सिंह कुशवाहा, बसंत चौधरी, रंजीत गुप्ता, मोहन केसरी, विनय पटेल, आत्मानंद सिंह कुशवाहा, कुंदन पटेल, जयकांत प्रसाद, महेश प्रसाद, वीरेंद्र कुशवाहा, सुजीत पटेल, संतोष पटेल, योगेंद्र प्रसाद, संजीत पटेल, रविरंजन सिंह कुशवाहा, प्रभात चौधरी, कादंबिनी ठाकुर, शशिभूषण शाही, अरुण कुशवाहा, रामविलास महतो, नंदकिशोर कुशवाहा, रंजन सरोज, दीपनारायण सिंह, राहुल कुमार, सुनील यादव ने शोक जताया है।

खबरें और भी हैं...