माेतीझील से अपहरण का रचा था नाटक:पिता से फिराैती ऐंठने के चक्कर में लहठी काराेबारी फंसा, मीनापुर में पुलिस ने ऑटाे से किया बरामद

मुजफ्फरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • खाते में डलवा दिया था 70 हजार
  • पुलिस काे भी भरमाने के लिए पहले झूठी कहानी गढ़ी, फिर सवालाें की बाैछार पर खाेला राज

मोतीझील से अपहृत लहठी कारोबारी मो. रहमत पुलिस काे मीनापुर में एक ऑटाे में मिला। वह ऑटो से शिवहर से मुजफ्फरपुर की ओर लौट रहा था। उसकी जेब से वह मोबाइल भी मिल गया है जिससे फाेन कर फिराैती के 4 लाख रुपए मांगे गए थे। रहमत काे जब ऑटाे से उतारा जाने लगा ताे वह आनाकानी करने लगा। पुलिसकर्मियाें ने उसे खींचकर उतारा।

पुलिस अधिकारियाें ने उससे पूछताछ के बाद स्पष्ट किया है कि रहमत ने पिता से रुपए ऐंठने के लिए अपने ही अपहरण की झूठी कहानी गढ़ दी। दबाव बना कर फिराैती के रूप में पिता से खाते में 70 हजार रुपए डलवाए। पुलिस रहमत काे ही जेल भेजने की कवायद में जुटी है। रहमत ने बरामदगी के बाद शुरुआत में पुलिस काे भरमाने के लिए अपहरण की झूठी कहानी गढ़ी।

कहा कि वह 5 अगस्त की रात 9 बजे मोतीझील से रिक्शा से रामबाग चौड़ी स्थित अपने घर जा रहा था कि बीबी कॉलेजिएट गली में पीछे से किसी ने रूमाल सुंघा दिया। वह बेहाेश हाे गया। हाेश आने पर एक बगीचा में था। हाथ-पैर बंधे हुए थे।

5 लोग घेरे हुए थे। देर रात में 4 बदमाश चले गए। सुबह में किसी तरह चकमा देकर भाग निकला। शिवहर से 2 ऑटो बदल कर घर आ रहा था कि मीनापुर में पुलिस मिल गई। उसके द्वारा अपहरण की झूठी कहानी का खुलासा तब हुआ जब पुलिस की ओर से सवालाें की बाैछाड़ हाेने लगी।

धीरे-धीरे उसने पूरी हकीकत खाेल दी। बताया कि अपहरण के बाद उसके पिता के मोबाइल पर फाेन कर 70 हजार रुपए एक अकाउंट में डालने के लिए कहा गया था। शनिवार काे सुबह 11:30 बजे परिजन ने अकाउंट में रुपए डलवाए। उसमें से 10 हजार रुपए की तरियानी में निकासी की गई। पुलिस टीम जब शिवहर की ओर बढ़ी तो रहमत का लोकेशन मीनापुर में मिला। तब मीनापुर में रहमत ऑटो में बैठा हुआ मिल गया।

  • गायब काराेबारी मीनापुर में शिवहर की ओर से ऑटाे से आते हुए मिला है। फिराैती में रुपए के लिए उसने खुद ही अपहरण की झूठी कहानी गढ़ी थी। अब उसे ही जेल भेजा जाएगा। -जयंत कांत, एसएसपी
खबरें और भी हैं...