पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चौंकानेवाला खुलासा:गड़बड़झाला ऐसा कि बिहारशरीफ की सरिता काे स्वास्थ्य विभाग ने बना दिया मुजफ्फरपुर की तान्या

मुजफ्फरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ‘एंटी’जन टेस्ट का सच, बिना जांच कराए कई लाेगों काे निगेटिव रिपोर्ट मिलने के बाद दैनिक भास्कर की पड़ताल

एंटीजन जांच की सच कुछ ऐसा है जिसे जान आप चौंक जाएंगे। कई ऐसे लाेग भी हैं जाे काेराेना की आशंका पर डेढ़ माह पहले सदर अस्पताल में एंटीजन जांच कराई थी। उस वक्त उन्हें निगेटिव रिपोर्ट बता दिया गया था। अब एक बार फिर उनके मोबाइल पर बगैर जांच के ही निगेटिव रिपोर्ट का मैसेज जा रहा है।

कुछ ऐसे लाेग भी हैं जिन्होंने काेराेना काे मात दे दी और अब उनके मोबाइल पर निगेटिव होने की रिपोर्ट आ रही है। शहर के बालू घाट की साक्षी अग्रवाल कहती हैं कि उन्होंने 20 अप्रैल काे सदर अस्पताल में अपनी व चचेरे भाई राहुल की जांच कराई थी। अब वह पूरी तरह ठीक हैं। उन्हें ताे काेई रिपोर्ट नहीं मिली, लेकिन नेशनल पोर्टल पर दर्ज है।

इस्लामपुर के माे. वसीम ने 25 अप्रैल काे सैंपल दिया था। 22 मई को उनके मोबाइल पर काेराेना निगेटिव रिपोर्ट का मैसेज आया। मझौलिया के रिपुसूदन मिश्र ने कहा कि उन्होंने 27 अप्रैल को सदर अस्पताल में एंटीजन जांच कराई ताे रिपोर्ट नेगेटिव आई। पुन: जंक्शन पर जांच कराई तो रिपोर्ट पॉजिटिव निकली। अब उनके नाम से पोर्टल पर काेराेना निगेटिव की रिपोर्ट दर्ज है।

बैंककर्मी भी हतप्रभ, बिना जांच के रिपोर्ट मिली

1. बिहारशरीफ के रामचंद्रपुर मोहल्ले की रहनेवाली 26 वर्षीय सरिता कुमारी के मोबाइल पर तान्या नाम से मुजफ्फरपुर सदर अस्पताल से कोरोना निगेटिव रिपोर्ट का मैसेज गया। लिखा था- तान्या, आईडी- एसवाईएस-सीओवी-बीआई-एमजेडएफ-20-23351554, दिनांक-30 अप्रैल 2021 को आपका काेराेना वायरस की जांच को सैंपल लिया गया था।

एंटीजन जांच में वह निगेटिव पाया गया है। सरिता आश्चर्यचकित रह गईं। क्योंकि, उन्होंने कहीं भी काेराेना जांच नहीं कराई थी। हालांकि, जब उन्होंने तान्या नाम देखा तो लगा कि गलती से किसी दूसरे का मैसेज आ गया है। 3 दिन पहले उन्होंने काेराेना टीका के लिए अपने मोबाइल से रजिस्ट्रेशन कराया था।

2. 22 मई की रात बैंक ऑफ इंडिया की पीयर शाखा के मैनेजर और गायघाट प्रखंड के केवटसा निवासी प्रदीप कुमार के मोबाइल पर भी काेराेना नेगेटिव हाेने का मैसेज आया। उसमें लिखा था कि आपसे कोरोना वायरस की जांच के लिए 20 मई को सैंपल लिया गया था।

इसका आईडी SYS COV BI MZF 20 25322900, दिनांक 20 मई है। एंटीजन जांच में वे निगेटिव पाए गए हैं। प्रदीप ने बताया कि उन्होंने 20 मई को कोरोना जांच के लिए कोई सैंपल दिया ही नहीं। 12 अप्रैल को पूरे बैंक कर्मियों के साथ ही उनकी एंटीजन जांच की गई थी जिसका मैसेज उसी समय आया था।

एक नजर में मुजफ्फरपुर में अब तक रैपिड एंटीजन किट से हुई काेराेना जांच

  • जून 2020 से अब तक एंटीजन किट से 8 लाख 42 हजार 233 लाेगाें की काेराेना जांच की जा चुकी है।
  • आठ लाख 23 हजार 783 लाेगाें की रिपोर्ट निगेटिव अायी, जबकि 90 हजार लाेगों की रिपोर्ट का नहीं है कोई भी ब्याेरा
  • 18 हजार 450 लाेगाें की रिपोर्ट अाई है पाॅजिटिव, इनमें से कई काे फिर भेजी जा रही निगेटिव रिपाेर्ट
  • निजी लैब में एंटीजन किट से 10321 की हुई जांच, 1781 लाेगाें की रिपोर्ट पॉजिटिव और 4688 की निगेटिव अाई
  • कोरोना की दूसरी लहर में घर-घर बीमार लाेगाें की अवैध ढंग से डेढ़ हजार रुपए में एंटीजन किट से हाेने लगी जांच
  • किट में हेराफेरी की आशंका पर सकरा से 4000 किट के साथ सदर अस्पताल का 5 लैब टेक्नीशियन हुआ था गिरफ्तार
  • 90 हजार एंटीजन जांच की रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग के नेशनल पोर्टल पर अब तक नहीं की गई है अपलाेड।
खबरें और भी हैं...