आतिशबाजी पर बैन बेअसर:दिवाली की अगली सुबह लाॅकडाउन से 9 गुना अधिक जहरीली हुई शहर की हवा, एक्यूआई हुआ 334

मुजफ्फरपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सर्दी से पहले ही शहर की हवा जहरीली हाे गई है। दिवाली पर आतिशबाजी पर बैन थी, लेकिन प्रशासन का आदेश बेअसर रहा। लाेगाें ने जमकर पटाखे फाेड़े। दिवाली पर एयर क्वालिटी इंडेंक्स (एक्यूआई) जहां 328 था। वो शुक्रवार काे 334 पर पहुंच गया। यानी हवा की गुणवत्ता काफी खराब श्रेणी में दर्ज की गई। राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद की रिपाेर्ट के मुताबिक, यह इस साल का सबसे अधिक और लाॅकडाउन के समय से 9 गुना अधिक है। लाॅकडाउन के दाैरान एक्यूआई 37 तक आ जाने से शहर की हवा स्वच्छ हाे गई थी। लेकिन, बरसात खत्म हाेने के साथ ही प्रदूषण का लेवल बढ़ने लगा। मास्क का इस्तेमाल जरूरी है।

इस साल पहली बार इतना खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण
दिवाली की रात पटाखे जलने से आसमान धुएं के गुबार से ढंक गया। शुक्रवार की सुबह आसमान में धुएं जैसा नजारा दिखा। सूक्ष्म धूलकण पीएम 2.5 की मात्रा इतनी बढ़ गई थी कि सुबह में घराें के अंदर काले कण बिछ गए थे। फिजिशियन डाॅ. एके दास ने कहा कि पाॅल्यूशन बढ़ने से कुछ दिनों से आंखाें में जलन, नाक से पानी गिरने और बुजुर्गाें व दिल के बीमार लाेगाें में दम फूलने की समस्या 40 प्रतिशत तक बढ़ गई है।

पिछले साल से इस बार थाेड़ी राहत | दिवाली के बाद शहर की आबाेहवा बिगड़ गई है। लेकिन, राहत की बात यह है कि पिछले साल से प्रदूषण का लेवल अभी कम है। गत वर्ष दिवाली के बाद एक्यूआई औसत 362 पर पहुंच गया था। कलेक्ट्रेट इलाके में सूक्ष्म धूल कण की मात्रा 334 ताे जिला स्कूल इलाके में 278 रही।

खबरें और भी हैं...